आगरा, जागरण संवाददाता। एडीजी राजीव कृष्ण ने मंगलवार को एसिड अटैक सर्वाइवर्स से संवाद कर उनकी पीड़ा को जाना। सर्वाइवर्स ने पुलिस द्वारा एफआइआर दर्ज नहीं किए जाने से मुआवजा नहीं मिलने व उत्पीड़न का मुद्दा उठाया। एडीजी ने कहा कि एसिड अटैक पीड़िताओं के संघर्ष को तो हालीवुड ने भी स्वीकारा है। इतनी पीड़ा के बाद भी हौसला बरकरार रखने के उनके जज्बे को वह सलाम करते हैं।

एसिड अटैक पीड़िताओं को नहीं मिला मुआवजा

शीरोज हैंगआउट कैफे में हुए कार्यक्रम में एसिड अटैक पीड़िताओं रुकैया और मधु ने एफआइआर नहीं होने की वजह से सरकारी मुआवजा नहीं मिलने का दर्द बयां किया। शाहगंज में मई में हुए एसिड अटैक की पीड़ित रेशमा और एल्मा भी एडीजी से मिलीं और उनके साथ हो रहे उत्पीड़न की जानकारी दी। गीता, मधु, रुकैया, डाली, खुशबू, लक्ष्मी, मौसमी ने भी अपनी बात रखी। एडीजी ने कहा कि एसिड अटैक पीड़िताओं की पुलिस पूरी सहायता करेगी।

एसिड अटैक महिलाओं के प्रति संवेदनशीलता के लिए कदम उठाएंगे

वर्ष 2013 के बाद कानून में बदलाव आने से बहुत बदलाव आया है। वह शीघ्र ही आगरा जोन के सात जिलों के पुलिस-प्रशासन, नोडल अधिकारियों, सामाजिक संस्थाओं के साथ कार्यशाला कर एसिड अटैक महिलाओं के प्रति संवेदनशीलता के लिए कदम उठाएंगे। छांव फाउंडेशन के आशीष शुक्ला, डा. मधु भारद्वाज, वत्सला प्रभाकर, पैनसी थामस, डा. संजना माहेश्वरी, हृदेश चौधरी, नरेश पारस, अजय तोमर, सुनीता झा ने अपने सुझाव व समस्याएं बताईं। एडीजी ने नागरिकों के साथ चर्चा कर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

सिविल सोसायटी आफ आगरा के सचिव अनिल शर्मा ने कहा कि पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू होने से पुलिस का दायित्व व सरोकार बढ़ गए हैं। पुलिस की सक्रियता से ही आम नागरिकों में सामाजिक समरसता और न्याय भाव संभव है।

ये भी पढ़ें...

Jawahar Bagh Mathura: 66 माह चली सुनवाई, 15 दोषी की हो गई मौत, 10 जनवरी को गाजियाबाद सीबीआइ कोर्ट में सुनवाई

यह समस्याएं बताईं

  • थ्री-व्हीलर व मयूरी वाले अश्लील गाने बजाते हैं, जिससे महिला सवारी असहज महसूस करती हैं
  • सड़क पर रहने वाली लड़कियों व महिलाओं के लिए सरकारी स्टे होम में व्यवस्था की जाए
  • एसिड की बिक्री पर रोक लगाई जाए। एक नंबर प्रचारित कर जनता को रिपोर्ट करने को कहा जाए

छपाक से लेकर द गीता तक का सफर

शीरोज हैंगआउट ने एसिड अटैक पीड़िताओं की आवाज उठाई। बालीवुड ने फिल्म 'छपाक' बनाई, जिसमें दीपिका पादुकोण ने मुख्य भूमिका निभाई। आस्ट्रेलिया के मेलबोर्न से एमा मैके स्टार्च ने डाक्यूमेंट्री 'द गीता' बनाई। इसे 10 अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार फिल्म फेस्टिवल में मिल चुके हैं। अमेरिका से सोशल जस्टिस इंपैक्ट अवार्ड मिला है। 

Edited By: Abhishek Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट