श्री मुक्तसर साहिब, [रणजीत गिल्ल]। रोजी रोटी कमाने के लिए सऊदी अरब गया श्री मुक्तसर साहिब के गांव मल्लण का युवक हत्या के मामले में जेल में बंद है। उसे छोडऩे के एवज में 90 लाख की ब्लड मनी मांगी गई है। उसके परिवार के पास इतनी पूंजी नहीं है कि वह देकर अपने बेटे को छुड़वा सके। अब बलविंदर के पास 60 दिन का समय है। अगर इस दौरान ब्लड मनी नहीं दी गई तो उसका सिर कलम कर दिया जाएगा।

सऊदी अरब की जेल में हत्या के मामले में बंद है मुक्तसर का युवक, ब्लड मनी मांगी

मल्लण के बलविंदर सिह की मां मनजीत कौर ने बताया कि उसका बेटा 11 वर्ष पहले कमाई करने के लिए सऊदी अरब गया था। उनके पास पैसा न होने के कारण बलविंदर के मामा ने पूरा खर्च किया था। उन्हें क्या पता था कि विदेशी धरती पर कमाई करनी इतनी महंगी पड़ेगी। सऊदी अरब में एक गैराज पर कुछ पंजाबी युवक काम करते थे। वहां मिस्र का एक युवक भी काम करता था, जो कि इन्हें परेशान करता था।

11 वर्ष पहले सऊदी अरब गया था बलविंदर, झगड़े में गई थी मिस्र के युवक की जान

उन्होंने बताया कि एक दिन मिस्र के युवक का उनके बेटे बलविंदर और उसके साथियों के साथ झगड़ा हो गया। उसने तेजधार हथियार से हमला किया, लेकिन उनके बेटे व जालंधर के युवक जङ्क्षतदर ने अपना बचाव करते हुए उसे लाठियों से पीट दिया और अपने मालिक को बता दिया। बाद में मिस्र के युवक को पुलिस ने अस्पताल पहुंचाया और इन दोनों को पकड़कर ले गई। इलाज के दौरान घायल युवक की मौत हो गई।

पिछले पांच वर्षों से जेल में है बंद, जालंधर का युवक भी था आरोपित, अदालत ने कर दिया बरी

पांच वर्ष जेल में रहने के बाद बलङ्क्षवदर ङ्क्षसह को बताया गया कि जिसके साथ उनका झगड़ा हुआ था, उसकी मौत हो गई थी। इसी कारण उसे जेल में बंद किया गया है। सुनवाई के दौरान सऊदी अरब की अदालत ने जालंधर निवासी जतिंदर को तो रिहा कर दिया, लेकिन बलविंदर को मुख्य आरोपित मानते हुए जेल में ही बंद रखा है।

सख्त है सऊदी अरब का कानून

सऊदी अरब के कानून के अनुसार जिस देश के व्यक्ति की हत्या हुई है, उस देश के कानून के अनुसार बलविंदर सिंह को उनके परिवार से समझौता करना होगा, नहीं तो उसका सिर कलम कर दिया जाएगा। मृतक के परिवार ने जो ब्लड मनी मांगी है, वह इंडियन करंसी में 90 लाख रुपये बनती है। मनजीत कौर ने बताया कि वह इतने पैसे कहां से देंगे, क्योंकि बलविंदर के पिता की पहले ही मौत हो चुकी है और भाई ट्रक ड्राइवर है। वह खुद दमे की मरीज है। उन्होंने राज्य सरकार, राजनीतिक पार्टियों और समाज सेवी संस्थाओं से मदद की गुहार लगाई है, ताकि उसके बेटे की जान बच सके।

यह भी पढ़ें: कर्ज लेकर कर्मचारियों के वेतन दे रही पंजाब सरकार, लिया 1000 करोड़ रुपये का Loan

ऊपरी अदालत में अपील करने के लिए 20 दिन का समय

मनजीत कौर का कहना है कि बलविंदर सिंह के वकील याकुब खान ने बताया है कि यह निचली अदालत का फैसला है। उपरी अदालत में अपील कर सकते हैं, जिसके लिए 20 दिन का समय है। हालांकि वहां से भी राहत नहीं मिल सकती। ब्लड मनी के 90 लाख रुपये तो देने ही पड़ेंगे। इसके लिए बलविंदर के पास दो महीने का समय है। इस बीच पैसे नहीं दिए तो उसका सिर कलम कर दिया जाएगा।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

यह भी पढ़ें: किसान का कमाल : 100 रुपये का एक अमरूद, स्‍वाद है निराला, बिक रहा हाथों-हाथ

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!