संवाद सहयाेगी, रायकोट (लुधियाना)। Punjab Assembly Election 2022: शिरोमणि अकाली दल (बादल) द्वारा हलका रायकोट को समझौते के अंतर्गत बहुजन समाज पार्टी को देने पर राजनीति शुरू हो गई है। शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) के सचिव जरनल पूर्व विधायक जत्थेदार रणजीत सिंह तलवंडी ने कहा कि बादल परिवार ने पंथक हलके रायकोट को सौदेबाजी करके बेच दिया है, लेकिन वह हलके से पंथक नेता को बनाकर उम्मीदवार मैदान में उतारेगा। उन्होंने कहा कि देश के बंटवारे के बाद इस हलके से बापू छांगा सिंह ने शिरोमणि समिति जीती। इसके इलावा पिछले 50 -55 सालों से हलके लोगों ने तलवंडी परिवार को सम्मान दिया है और आज तक शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति की सीट तलवंडी परिवार के पास है।

उन्होंने आराेप लगाया कि यदि बादल परिवार ने तलवंडी परिवार का विरोध ही करना था तो करते रहते, परन्तु पंथक हलका रायकोट से शिरोमणि अकाली दल अपने वोट बैंक को बचाने के लिए अटवाल या खालसा परिवार को उम्मीदवार बना देते। उन्होंने कहा कि इस परिवार ने पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं को एक तरफ करके घरों में बैठने के लिए मजबूर कर दिया और सीटों बसपा के खातो में डाल दीं हैं।

सुखबीर बादल प्रदेश में सरकार बनाने की बातें कर रहे हैं, इस तरह पंथक हलकों की सौदेबाज़ी करके या वरिष्ठ नेताओं को एक तरफ करके सरकार नहीं बन सकती। जत्थेदार तलवंडी ने कहा कि अगर पंथक हलका रायकोट से अकाली दल की तरफ से उम्मीदवार मैदान में न उतारा गया तो वह शिरोमणि अकाली दल संयुक्त के प्रधान सुखदेव सिंह ढींडसा के साथ बात कर पंथक नेता को उम्मीदवार बनाएंगे।

ये रहे माैजूद

इस मौके पर करनैल सिंह पीर मुहम्मद, मान सिंह गर्चा, जिला प्रधान सुखदेव सिंह चक्ककलें, जगतार सिंह तारा, राजदीप सिंह आंडलू, बिंदरजीत सिंह गिल, बलवीर सिंह मान, मनप्रीत सिंह ग्रेवाल, जसकरन सिंह बुट्टर व सोहण सिंह ताजपुर आदि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें-Income Tax Raid In Ludhiana: ईडी के बाद केबल और ट्रांसपोर्ट कंपनी पर इनकम टैक्स की रेड, टीम खंगाल रही दस्तावेज

Edited By: Vipin Kumar