श्रवण मिश्रा, लुधियाना। महानगर का सिविल अस्पताल आए दिन चर्चाओं में रहता है। रोजाना अस्पताल में सैकड़ों मरीज इलाज के लिए चक्कर लगाते व धक्के खाते हुए दिखाई देते है। ऐसा ही एक वाक्या मंगलवार देर रात को उस समय देखने को मिला जब मारपीट के मामले में घायल होकर आए एक युवक को अस्पताल में इलाज के लिये डाक्टरों की मिन्नतें करने पड़ी। इसके बावजूद डाक्टर ने इलाज करने व एमएलआर करने से मना कर दिया। इसके बाद गुस्साए परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया।

अस्पताल में खड़े मरीज के परिजन। (जागरण)

गांव चौनता में रहने वाली हरकीरत कौर ने बताया कि मंगलवार की रात उसके बेटे का पड़ोसी युवक के साथ मामूली विवाद के बाद झगड़ा हो गया। गांव के लोगों ने मामले की सूचना थाना कूमकलां की पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर पहुंच दोनों पक्षो को अलग कर अस्पताल में मेडिकल जांच करवाने के लिए भेजा। परिजन तुरंत घायल को लेकर कूमकलां के सिविल अस्पताल में पहुंचे जहां से डाक्टरों ने उसे लुधियाना के सिविल अस्पताल में रेफर कर दिया।

लुधियाना सिविल अस्पताल के बाहर खड़े मरीज के परिजन पुलिस से बात करते हुए। (जागरण)

देर रात सिविल अस्पताल में मेडिकल जांच करवाने पहुंचे घायल हरदीप सिंह (20) को सिविल की इमरजेंसी में तैनात महिला डाक्टर ने मेडिकल व इलाज नहीं किया, जिससे उनके बेटे को बहुत समय तक दर्द का सामना करना पड़ा। काफी समय तक इंतजार करने के पश्चात भी किसी ने मरीज को हाथ लगाने की क्षमता नहीं उठाई। जिसके बाद परिवारिक सदस्यों ने हंगामा किया। इसके पश्चात मामले की सूचना थाना डिवीजन नंबर दो की पुलिस को दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर घायलों के परिजनों को शांत करवाया। जिसके बाद डाक्टर ने घायल हरदीप सिंह का मेडिकल व उपचार किया गया।

यह भी पढ़ें-लुधियाना में बड़ी वारदात! अध्यापिका ने सुसाइड नोट लिख खुद पर पेट्रोल छिड़क लगाई आग, माैके पर मौत

 

Edited By: Vipin Kumar