जागरण संवाददाता, जगराओं (लुधियाना)। Hindi Diwas 2021: गुरु हरगोबिंद पब्लिक स्कूल सिधवां खुर्द में हिंदी दिवस हर्षोल्लास से मनाया गया। गर्व हमें है हिंदी पर, शान हमारी हिंदी है, कहते सुनते हिंदी हम, पहचान हमारी हिंदी है। यह कहना है स्कूल के प्रिंसिपल पवन सूद का। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता के पश्चात सरकार ने देश की मातृभाषा हिंदी को एक आदर्श रूप देने का लक्ष्य रखा और देवनागरी लिपि का उपयोग करके व्याकरण व शब्दावली के लिए एक लक्ष्य निर्धारित किया गया।

14 सितंबर 1949 को संविधान सभा में हिंदी को भारत की राजभाषा के रूप में अपनाया । इसके अलावा 14 सितंबर को साहित्यकार व्यौहार राजेंद्र सिंह का भी जन्मदिन था जिस कारण इस दिन को हिंदी दिवस के लिए श्रेष्ठ माना गया क्योंकि उन्होंने हिंदी को भारत की अधिकारिक भाषा बनाने की दिशा में अथक प्रयास किया। आज देवनागरी लिपि में लिखली जाने वाली हिंदी केंद्र सरकार की दो अधिकारिक भाषाओं में से एक है और दूसरी भाषा अंग्रेजी है।

इस मौके पर स्कूल की प्रार्थना सभा में छात्र-छात्राओं ने भाषण व कविताओं के माध्यम से हिंदी के महत्व, हिंदी दिवस मनाने का कारण, हिंदी का दैनिक जीवन में प्रयोग, हिंदी की आज के समाज में स्थिति के बारे में बताया। प्रिंसिपल पवन सूद ने छात्रों को हिंदी के प्रति सम्मान और दैनिक व्यवहार में हिंदी का उपयोग करने के लिए जागरूक किया। उन्होंने कहा कि हिंदी दिवस को मनाने का मुख्य उदेश्य हिंदी को बचाए व बनाए रखना है।

कुछ स्कूलों और सरकारी कार्यालयों तक सिमटा

हिन्दी दिवस सिर्फ कुछ स्कूलों और सरकारी कार्यालयों तक सिमट कर रह गया है जहां एक हफ्ते को हिन्दी पखवाड़े का नाम देकर उत्सव का रूप दे दिया जाता है। सरकारी से लेकर प्राइवेट दफ्तरों में हमारी कामकाज की भाषा अंग्रेजी है, और हम राष्ट्रभाषा के प्रचार-प्रसार की बात करते हैं।

यह भी पढ़ें-Honey Trap: पाकिस्तानी युवती ने सैन्य Whatsapp ग्रुपों में लगाई सेंध, लुधियाना के जसविंदर से OTP मंगवा आपरेट कर रही थी नंबर

 

 

Edited By: Vipin Kumar