जागरण संवाददाता, लुधियाना। कालेजों के प्रोफेसर्स वीरवार से शिक्षा मंत्री परगट सिंह के घर का घेराव करेंगे। यह फैसला उन्होंने लुधियाना के रखबाग में आयोजित राज्य स्तरीय मीटिंग में लिया। गवर्नमेंट कालेज गेस्ट फैकल्टी असिस्टेंट प्रोफेसर्स एसोसिएशन के विभिन्न जिलों के सदस्य राज्य प्रधान हरमिंदर सिंह की अध्यक्षता में एकत्रित हुए। 2 घंटे तक जारी मीटिंग में गेस्ट फैकल्टी ने फैसला लिया कि उनकी मांगों की तरफ कोई सुनवाई नहीं हो रही है, इसलिए अब संघर्ष तेज किया जाएगा।

फिलहाल मीटिंग जारी है और इसमें अन्य रणनीतियों पर भी चर्चा की जा रही है। जिला प्रधान फलविंदर वर्मा ने कहा कि एक नवंबर से गेस्ट फैकल्टी सरकारी कालेजों में धरना लगाकर बैठे हैं लेकिन उनकी कोई भी सुनवाई नहीं हो पा रही है। वह रोजाना की तरह धरना लगा रहे हैं पर सरकार कुछ भी नहीं कर रही। एसोसिएशन की एक मांग है कि सरकार उनकी नौकरी को सुरक्षित करे क्योंकि सरकार नई भर्ती करनेमें लगी हुई है और इससे उनके अस्तित्व को खतरा बना हुआ है। उनकी केवल एक मांग है कि सरकार उनकी नौकरी हर हालात में सुरक्षित करे।

यह भी पढ़ें-Weather Update Ludhiana: तेज हवाएं चलने से बढ़ी ठिठुरन, शाम काे बारिश के आसार; खराब श्रेणी में AQI

सरकारी कालेजों में 906 गेस्ट फैकल्टी दे रहे सेवाएं

वर्तमान में राज्य भर के विभिन्न सरकारी कालेजों में 906 गेस्ट फैकल्टी अपनी सेवाएं निभा रहे हैं। अगर नई भर्ती होती है तो पिछले 20 सालों से कालेजों में सेवाएं दे रहे गेस्ट फैकल्टी को नुकसान होगा। इसलिए पहले उनकी तरफ ध्यान दिया जाए व फिर सरकार नई भर्ती करे। एसोसिएशन ने फैसला लिया है कि अब वीरवार से तीखा संघर्ष किया जाएगा, जिसकी जिम्मेदार केवल सरकार ही होगी। मीटिंग में लखविंदर सिंह, चमकौर सिंह व इंद्रप्रीत कौर आदि शामिल हुए।

यह भी पढ़ें-Vivah Muhurat 2021: शादियाें के सीजन काे लेकर बाजार में उत्साह, होटल-पैलेस हाउसफुल; जानिये दिसंबर-जनवरी के शुभ मुहूर्त

Edited By: Vipin Kumar