जागरण संवाददाता, लुधियाना। भारतीय किसान यूनियन एकता उगराहां 12 बजे ही जिला प्रशासकीय कांप्लेक्स के मुख्य गेट पर कब्जा कर लेती है। किसान उसके बाद न तो किसी को जिला प्रशासकीय कांप्लेक्स के अंदर जाने देते हैं और न ही किसी को अंदर से बाहर आने देते हैं। किसानों के इस रवैये के कारण अलग अलग विभागों के कर्मचारियों व अधिकारियों के अलावा आम लोग भी परेशान हैं। डीसी दफ्तर, पंचायत विभाग, आरटीए दफ्तर, शिक्षा विभाग व चुनाव दफ्तर में बड़ी गिनती में रोजाना लोग पहुंचते हैं। लेकिन 12 बजे के बाद कोई अंदर नहीं जा पाता है। जिसकी वजह से लोगों के काम नहीं हो रहे हैं।

मंगलवार को भी दोपहर बारह बजते ही किसान जिला प्रशासकीय कांप्लेक्स के थड़े में आकर मेन गेट के सामने बैठ गए। किसान अंदर प्रवेश न करें इसके लिए सिक्योरिटी वालों ने गेट बंद कर दिया। अब किसान किसी को भी वहां से निकलने नहीं दे रहे हैं। लोग किसानों से मिन्नतें करते रहे लेकिन उन्होंने किसी को अंदर जाने नहीं दिया। किसान नेताओं ने साफ कह दिया कि डीसी दफ्तर के गेट पर रोजाना 12 से पांच बजे तक धरना जारी रहेगा। उनका कहना है कि सरकार किसानों की बात नहीं सुन रही है और किसान इसके लिए मजबूर हैं।

यह भी पढ़ें-पंजाब काेराेना गाइडलाइन: लुधियाना में भी स्कूल-कालेज बंद; शिक्षण संस्थान आनलाइन लगाएंगे क्लास; जानें गाइडलाइन

सुरक्षा कारणों से कांप्लेक्स का सिर्फ मुख्य गेट है खुला

जिला कोर्ट कांप्लेक्स में बम ब्लास्ट के बाद सुरक्षा कारणों से डिप्टी कमिश्नर वरिंदर शर्मा ने बाकी सभी गेट बंद करवा दिए। मुख्य गेट पर अंदर आने वालों का पता व फोन नंबर दर्ज करवाया जा रहा है। आरटीए दफ्तर की तरफ का गेट भी बंद है। किसानों ने साफ कर दिया कि जो गेट खोला जाएगा वो उस गेट पर भी धरना देंगे। जिसकी वजह से लोगों की परेशानी ज्यादा बढ़ गई।

यह भी पढ़ें-पटियाला मेडिकल कालेज के 102 डाक्टर्स, स्टूडेंट्स व पैरामेडिकल स्टाफ पॉजिटिव, लुधियाना डीएमसी में 42 स्टूडेंट्स संक्रमित

Edited By: Vipin Kumar