जासं, जालंधर। देहात पुलिस ने लोगों को रुपये दोगुणा और तीन गुणा करने का झांसा देकर ठगने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। आरोपित पैसे लेने के बाद पीड़ितों को चूरन के साथ मिलने वाले नकली नोट की गड्डियां थमाकर फरार हो जाते थे। पुलिस ने गिरोह के 6 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इनमें से 4 बिहार के रहने वाले हैं। आरोपितों के कब्जे से पुलिस ने चूरन वाले दो लाख 80 हजार के नोट बरामद किए हैं। उनसे एक लाख के असली नोट और चूरन के नोटों के साथ बनाई गई 11 गाड़ियां भी बरामद हुई हैं। पुलिस की माने तो गिरोह के सदस्य बड़े ही शातिराना अंदाज में वारदात को अंजाम देते थे। अब पुलिस आरोपितों को रिमांड पर लेकर उनसे पूछताछ करने की तैयारी कर रही है।

रुपये दोगुणा से 3 गुणा करने का झांसा देते थे आरोपित

एसपी इवेस्टीगेशन मनप्रीत सिंह ढिल्लों ने बताया कि सीआईए स्टाफ दो को सूचना मिली थी कि बिहार के बेतिया जिले के तेलीगिरी थाना क्षेत्र के बहेरिया गांव का दीनानाथ, गांव मंगलपुर कटाई थाना नौतन निवासी बालेश्वर राम तेलुगू का रहने वाला कन्हैया और बिजुआ, पश्चिम चंपारण जिले के बहेरिया के रमेश चौधरी ने जालंधर के गुरु अमरदास नगर निवासी अनूप शर्मा और अतुल बब्बर के साथ मिलकर एक गैंग बना रखा है। वे लोगों के साथ ठगी की वारदात अंजाम देते हैं।

इसके बाद सीआईए 2 के सब इंस्पेक्टर पुष्प बाली के नेतृत्व में एक टीम बनाकर गोराया थाना क्षेत्र के दाना मंडी के मार्केट ऑफिस के पास से पुलिस ने एक कार में सवार 6 लोगों को गिरफ्तार करके उनके कब्जे से चूरन वाले दो लाख 80 हजार के नोट और एक लाख रुपए कीमत के असली नोट बरामद किए। 

चूरने वाले नोटों के ऊपर और नीचे लगाते थे असली नोट 

आरोपित चूरन वाले नोटों की गड्डी के ऊपर और नीचे 100- 100 के असली नोट लगाते थे। वे पहले लोगों को रुपये तीन गुणा करने का झांसा देते थे। सब इंस्पेक्टर पुष्प बाली की माने तो या आरोपित लोगों को झांसे में लेने के बाद उनसे असली नोट ले लेते थे और फिर सफेद कागज और चूरन के नोटों के ऊपर असली नोट लगाकर उसकी गड्डी बनाकर उनसे ठगी कर लेते थे। इस गैंग ने कुछ दिनों पहले भार्गव कैंप में अवतार नगर के हरविंदर पाल उर्फ लाडी से इसी तरीके से 75 हजार रुपए ठगे थे।

यह भी पढ़ें - Tokyo Olympics 2020 : हॉकी खिलाड़ी नवजोत कौर बोली- खुशी बयां करना मुश्किल, ऑस्ट्रेलिया से निपटने को बनाई थी अलग रणनीति

 

Edited By: Pankaj Dwivedi