अमृतसर [नितिन धीमान]। Corona Vaccine Success Rate: कोरोना महामारी से बचाने के लिए शुरू हुआ टीकाकरण लोगों की जान बचाने में कामयाब साबित हो रहा है। इसका प्रमाण राज्य में दोनों डोज लेने वाले 300 लोगों से मिलता है। यह लोग दोनों डोज लेने के बाद कोरोना संक्रमित तो हुए, लेकिन वायरस इन पर ज्यादा असर नहीं डाल सका। इन लोगों को न तो अस्पताल जाने की जरूरत पड़ी और न ही कोई ज्यादा परेशानी हुई। घर में ही रहकर इन लोगों ने कोरोना को हरा दिया।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार पंजाब में 16 मई तक करीब सात लाख लोगों को दोनों डोज लग चुकी है। इनमें से 300 लोगों में डोज लेने के बाद कोरोना के हल्के लक्षण थे। वैक्सीन लगवाने के कारण इनके शरीर में वायरस से लड़ने की शक्ति इतनी मजबूत हो चुकी थी कि इन्हें अस्पताल जाने की जरूरत ही नहीं पड़ी।

यह भी पढ़ें: पंजाब में मंत्री चन्नी के खिलाफ MeToo का मामला गरमाया, महिला IAS अफसर ने लगाया था आरोप

 

होशियारपुर की रहने वाली एक 80 वर्षीय महिला के अनुसार उन्होंने दोनों डोज लगवाई थीं। वह हाइपरटेंशन की मरीज हैं। दोनों डोज लगवाने के बाद कोरोना पाजिटिव हुई, पर उनकी हालत गंभीर नहीं हुई। घर पर ही उनका इलाज हुआ और अब वह पूरी तरह स्वस्थ हैं।

यह भी पढ़ें: लुधियाना में मां के गर्भ तक पहुंचा Coronavirus, छह गर्भस्थ शिशुओं की मौत

वैक्सीन वायरस का कर देती है खात्मा

गुरुनानक देव अस्पताल अमृतसर के चिकित्सा अधिकारी व इंफ्लूएंजा लैब के इंचार्ज डा. केडी सिंह के अनुसार वैक्सीन प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है। इंसान के शरीर में वायरस के प्रवेश होते ही यह प्रतिरोधक क्षमता इसका खात्मा कर डालती है।

यह भी पढ़ें: ओवरलोड हुई पंजाब की जेलें, 90 दिन की छुट्टी पर भेजे जाएंगे 3600 सजायाफ्ता कैदी, प्रक्रिया शुरू

टीका लगवाने के बाद भी सावधानियां बरतें

यदि आप कोरोना की दोनों डोज लगवा चुके हैं तो भी सावधानियां बरतते रहें। सबसे जरूरी मास्क पहनना है। प्रोटीन युक्त आहार का सेवन करते रहें। भीड़ में जाने से परहेज करें। यदि संक्रमित होने के बाद रिकवर हो चुके हैं तो वैक्सीन जरूर लगवाएं।

यह भी पढ़ें: पंजाब कांग्रेस में घमासान: कैप्टन अमरिंदर सिंह से नाराज मंत्री व विधायकों की चन्नी के घर बैठक, बना रहे रणनीति