चंडीगढ़, जेएनएन। पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि करतारपुर साहिब मामले को पाकिस्‍तान से आतंकी खतरे और ड्रोन मामले से नहीं जोड़ा जाना चाहिए। पाकिस्‍तान पंजाब में अशांति व आतंक फैलाने की कोशिशों में लगा हुआ है, ले‍किन हम उसके मंसूबे पूरे नहीं होने देंगे। इसके साथ ही कैप्‍टन ने कहा कि उनके करतारपुर कॉरिडोर के पाकिस्‍तान की ओर से उद्घाटन के मौेके पर वहां जाने का सवाल ही नहीं है। पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह भी ऐसा नहीं करेंगे।

कहा- करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन पर मेरे पाकिस्‍तान जाने का सवाल नहीं

इसके साथ ही उन्‍होंने बताया कि गुरु नानक देव जी के 550 साला प्रकाशोत्सव उपलक्ष्य में आयोजित होने वाले समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी शामिल होंगे। अमरिंदर सिंह ने राष्‍ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी से मुलाकात कर उनको निमंत्रण दिया। दोनों ने इसे स्वीकार कर लिया। समारोह में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह भी शामिल होंगे। 

प्रधानमंत्री मोदी और राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात के बाद कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने नई दिल्‍ली में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि बता दें कि पाकिस्‍तान सरकार करतारपुर में कॉरिडोर के अपने हिस्‍से के शुभारंभ के मौके पर आयोजित होने वाले समारोह के लिए कैप्‍टन अमरिंदर सिंह व पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह को निमंत्रण दिया था। कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने इस बारे में पूछे गए सवाल पर कहा, मेरे करतापुर कॉरिडोर के उद्घाटन पर पाकिस्‍तान जाने का कोई सवाल ही नहीं उठता। इसके साथ ही मुझे लगता है कि डॉ. मनमोहन सिंह भी वहां नहीं जाएंगे।

कैप्‍टन अमरिंदर ने कहा कि राज्य सरकार पाकिस्तान से आतंकी खतरे से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है। सीमा पर तनाव व पाकिस्‍तान ड्रोन से हथियार भेजे जाने के सवाल पर कैप्‍टन अमरिंदर ने कहा कि इसके प्रति पूरी सतर्कता बरती जा रही है, लेकिन इसे किसी भी तरीके से करतारपुर साहिब मामले से जोड़ा जाना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि श्री गुरु नानक देव जी की 550 वें प्रकाशोत्‍सव के धार्मिक अवसर के साथ इस मामले को जोड़ना गलत होगा। 

यह पूछे जाने पर कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर कैप्‍टन अमरिंदर ने कहा कि वह प्रधानमंत्री को श्री गुरु नानकदेव के 550वें प्रकाशोत्‍सव पर आयोजित होनेवाले समारोह के लिए आमंत्रण देने को मिले थे। उन्‍होंने कहा कि राज्‍य सरकार पंजाब में किसी भी कीमत पर कानून व शांति व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है। हम किसी को राज्‍य में शांति व सद्भाव के माहौल को नहीं बिगाड़ने देंगे।

उन्‍होंने कहा 'पाकिस्‍तान केवल ड्रोन के जरिये ही पंजाब में अशांति और आतंक नहीं फैलाना चाहता, बल्कि वह इसके लिए सीमापार से घुसपैठ और नशे के आतंक का भी सहारा ले रहा है। हम ऐसा नहीं होने देंगे। हम इससे निपटने में पूरी तरह सक्षम और तैयार हैं। हम उन्‍हें कड़ा सबक सिखाएंगे। एक अन्‍य सवाल के जवाब में कैप्‍टन ने कहा कि सीमा क्षेत्र में ड्रोन मिलने के मद्देनजर भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) और सीमा सुरक्षा बल (Border Security Force) हाई अलर्ट पर रहने को कहा गया है।

यह भी पढ़ें: नई दिल्‍ली-लुधियाना शताब्दी का नाम बदला, किराया घटा और छोटे स्‍टेशनों पर भी रुकेगी

इससे पहले कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। उन्‍होंने दोनों को श्री गुरु नानकदेव के 550वें प्रकाशोत्‍सव पर आयोजित समारोह के लिए निमंत्रण दिया। कैप्‍टन अमरिंदर ने बताया कि दोनों ने इसे स्‍वीकार कर लिया और समारोह में भाग लेने का भरोसा दिलाया।

यह भी पढ़ें: शरीर पर बने टैटू ने खोल दिया महिला का राज, दुष्‍कर्म का आरोपित बरी, जानें ऐसा क्‍या लिखा था

कैप्‍टन अमरिंदर ने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को कार्यक्रम के बारे में विस्‍तृत जानकारी दी। उन्होंने दोनों से विशेष रूप से डेरा बाबा नानक में करतारपुर कॉरिडोर के शुभारंभ और 12 नवंबर को सुल्तानपुर लोधी में होनेवाले मुख्य कार्यक्रम में भाग लेने का आग्रह किया। मुख्‍यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह से भी मुलाकात की और समारोह के लिए निमंत्रण दिया।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!