जेएनएन, चंडीगढ़। स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने गत दिवस नई दिल्ली में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। सिद्धू को रोड रेज के मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राहुल गांधी ने विशेष तौर पर बधाई दी थी। इसके बाद सिद्धू की पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ पहली मुलाकात थी।

सिद्धू ने इस मीटिंग को एक सिपाही की जनरल के साथ मुलाकात बताया। सिद्धू ने राहुल गांधी के साथ मुलाकात करते हुए पार्टी की ओर से उनमें विश्वास दिखाने पर धन्यवाद किया। वहीं, अपनी वचनबद्धता दोहराते हुए कहा कि वह अपना पूरा जीवन कांग्रेस पार्टी को समर्पित करते हैं और पार्टी की ओर से जो भी उत्तरदायित्व सौंपा जाएगा, उसे वह पूरी निष्ठा से निभाएंगे। गौरतलब है कि 30 साल पुराने रोड रेज मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सिद्धू को बरी कर दिया है।

नवजोत सिंह सिद्धू के मामले में बरी होने के बाद खुशी जताई। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उन्‍होंने कहा था कि यह परमात्‍मा की परम कृपा है और लाखों-करोड़ों लोगाें की दुआओं का असर है। सिद्धू ने कहा, मेरा जीवन संघर्षों से भरा रहा है। सात साल की उम्र से संघर्ष कर रहा हूं। कुछ नेताओं ने इस मामले पर भी राजनीति की और इसके लिए मैं उन्‍हें माफ करता हूं।

उन्‍होंने कहा इस अवसर पर वह प्रण करते हैं कि अपना जीवन पंजाब के लिए समर्पित करता हूं। मैंने राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को कहा है कि मेरा जीवन अापको समर्पित करता हूं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राहुल जी और प्रियंका जी का मैसेज आया तो मैं भावुक हो गया।

सिद्धू ने कहा, 'मेरे शरीर में जब तक लहू है राहुल गांधी के साथ खड़ा रहूंगा। मेरी एक-एक सांस अब पंजाब के लिए है और पंजाब के लिए अपना सब कुछ लगा दूंगा।' उन्‍होंने कहा कि मैं न्‍याय व्‍यवस्‍था और कानून के प्रति नतमस्‍तक हूं। कानून सबसे ऊपर है।

यह भी पढ़ेंः सिद्धू की फैशन डिजाइनर बेटी बोली, मम्मी-पापा चाहेंगे तो राजनीति में जरूर आऊंगी

 

By Kamlesh Bhatt