चंडीगढ़, [विशाल पाठक]। इस गर्मी में ट्रेनें फुल चल रही हैं और दो-तीन महीने आगे की भी कन्फर्म टिकट नहीं मिल रही है। यदि आपको भी यात्रा करनी है और ट्रेनों में कंफर्म टिकट नहीं मिल रहा है तो निराश न हों। आइआरसीटीसी (IRCTC) के ऑनलाइल एप के एक खास फीचर आपकी मदद कर सकता है। इसका इस्‍तेमाल कर आप सफर कर सकेंगे। यह आपको किसी ट्रेन में कंफर्म टिकट न‍हीं मिलने पर उसी रूट पर चलने वाली दूसरी ट्रेन में सफर करने की सुविधा देगा।

रेलवे की ओर से शुरू की गई विकल्प स्कीम का पैसेंजर उठा सकते हैं लाभ
आइआरसीटीसी (IRCTC) की विकल्प स्कीम के बारे में पैसेंजर्स को अधिक जानकारी नहीं है। इसकी वजह से लोग इस स्कीम का लाभ नहीं उठा पाते हैं। आप आइआरसीटीसी की इस विकल्प स्कीम का लाभ उठा सकते हैं। इस स्‍कीम के तहत अगर यात्री को ट्रेन के चलने तक उसमें कंफर्म सीट नहीं मिली है, तो उससे उसी रूट पर जाने वाली अगली ट्रेन में सीट दी जाती है। सभी ट्रेन और सभी कैटिगरी में यात्री इसका लाभ उठा सकते हैं।

ट्रेन और सीट की उपलब्धता पर निर्भर है स्कीम
विकल्‍प स्कीम का मतलब यह नहीं है कि पैंसेंजर को कि‍सी और ट्रेन में कन्फर्म टि‍कट मि‍ल जाएगा। यह ट्रेन और सीट की उपलब्‍धता पर निर्भर करता है। विकल्प स्कीम के तहत कई नि‍यम हैं, जिनके आधार पर दूसरी ट्रेन में पैसेंजर को जगह दी जाती है। जैसे कि‍स स्‍टेशन से ट्रेन पकड़नी है और कहां तक आपको सीट चाहिए। अगर यात्री को कि‍सी और ट्रेन में सीट मि‍ल जाती है। उससे न तो कोई एक्स्ट्रा किराया लि‍या जाता है और न ही कि‍सी अन्‍य तरह का चार्ज वसूल किया जाता है।

यह भी पढ़ें: गुरमीत राम रहीम का यह मामला फिर गर्माया, लपेटे में बादल पिता पुत्र भी आए

अगर इस योजना के तहत यात्री को कि‍सी और ट्रेन में टि‍कट मि‍ल जाता है तो वह फि‍र उस ट्रेन में सफर नहीं कर सकता, जि‍सकी टिकट उसने बुक कराई थी। यात्रि‍यों को चाहि‍ए कि जि‍स वैकल्‍पि‍क ट्रेन में टि‍कट मि‍ला है, चार्ट तैयार होने से पहले पीएनआर नंबर के जरिए सीट व कोच कन्फर्म कर लें। अगर दूसरी ट्रेन में सीट मि‍लने के बाद यात्री सफर नहीं करता है तो वह टीडीआर के माध्‍यम से रि‍फंड क्‍लेम कर सकता है।

क्या है विकल्प स्कीम
वेटिंग टिकट वाले यात्रियों की सुविधा के लिए रेल मंत्रालय ने विकल्प स्कीम की शुरुआत की है। इसके तहत वेटिंग टिकट वाले यात्रियों को दूसरी ट्रेन में जगह मिलने पर सीट देने का विकल्प रहता है। इसकी शुरुआत इसलिए की गई है, ताकि किसी ट्रेन में खाली सीट हो तो उसका उपयोग हो सके। यह विकल्प न सिर्फ ऑनलाइन बुकिंग पर है, बल्कि विंडो टिकट पर भी उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें: बड़ा ट्रेन हादसा टला, ड्राइवर की मुस्तैदी से बची हजारों यात्रियों की जान

चंडीगढ़ से चलने वाली ट्रेनों की वेटिंग लिस्ट
- ट्रेन नंबर 12312 कालका मेल मैं 18 से 30 जून तक स्लीपर कोच में वेटिंग 50 से लेकर 101 बीच है। जबकि थर्ड एसी की अगर बात करें तो वेटिंग वेटिंग लिस्ट 27 से 14 के बीच है।
- ट्रेन नंबर 14218 ऊंचाहार एक्सप्रेस में 18 से 30 जून तक स्लीपर कोच में वेटिंग 40 से 60 के बीच है। जबकि थर्ड एसी की अगर बात करें तो वेटिंग लिस्ट 20 से 9 के बीच है।
- ट्रेन नंबर 12232 सद्भावना सुपरफास्ट ट्रेन में 18 से 30 जून के बीच स्लीपर कोच में वेटिंग 50 से 70 के बीच है जबकि थर्ड एसी में अगर बात करें तो वेटिंग लिस्ट 10 से 40 के बीच है।

अंबाला डिवीजन के डीआरएम दिनेश शर्मा ने बताया, 'ट्रेनों में बढ़ती वेटिंग लिस्ट को देखते हुए हमने चंडीगढ़ से कई स्पेशल ट्रेनें शुरू की हैं ताकि यात्रियों को परेशानी न हो। साथ ही कई ट्रेनों में अतिरिक्‍त कोच भी लगाए जा रहे हैं। इसके अलावा यात्री चाहे तो रेलवे की विकल्प स्कीम का भी लाभ उठा सकते हैं। इसमें यात्री टिकट कंफर्म नहीं होने पर उसी रूट की दूसरी ट्रेन में यात्रा करने के विकल्प का लाभ उठा सकते हैं।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sunil Kumar Jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!