चंडीगढ़, जेएनएन। लगभग पांच शताब्दी पहले गुरु नानक देव जी को हजारों एकड़ जमीन दान में देने वाले पाकिस्तान के राय बुलार भट्टी परिवार के वंशजों को भारत आने की इजाजत नहीं मिली। भारत सरकार ने उनको वीजा देने से इन्‍कार कर दिया। इस कारण वे गुरु श्री नानकदेव के 550वें प्रकाश पर्व पर आयोजित समाराेह में शामिल नहीं हो सके।

पाकिस्तान के ननकाना साहिब में रहने वाले राय बुलार भट्टी परिवार की 19वीं पीढ़ी के सलीम भट्टी को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम में आमंत्रित किया था।

पाकिस्तान के ननकाना साहिब में रहने वाले सलीम भट्टी को एसजीपीसी ने किया था आमंत्रित

भट्टी ने मीडिया को बताया कि उन्हें एसजीपीसी, अमृतसर के गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी के साथ ही पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के वकीलों की एक संस्था द्वारा आमंत्रित किया गया था। यह कार्यक्रम आयोजित हो चुका है। भट्टी को उम्मीद थी कि भारत सरकार द्वारा वीजा मिलने पर वह सुल्तानपुर लोधी के दर्शन करने पंजाब अवश्य पहुंचेंगे।

गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाशोत्सव कार्यक्रम में परिवार को लेना था हिस्सा

भट्टी ने बताया कि उनके साथ उनके पिता और पुत्र भी पंजाब पहुंचने की योजना बना रहे थे लेकिन अब उन्हें भारत सरकार द्वारा भेजे पत्र से पता चला है कि उनके वीजा आवेदन को रद कर दिया गया। इससे उन्हें निराशा हुई है। गौरतलब है कि गुरु नानक देव जी के समकालीन राय बुलार भट्टी ने उनकी आध्यात्मिक शक्ति को पहचान कर उन्हें लगभग 18,500 एकड़ भूमि दान में दी थी। इस परिवार को अब धार्मिक सद्भाव का प्रतीक माना जाता है।

यह भी पढ़ें: सहेली संग लिव इन में रह रही महिला कांस्‍टेबल को अन्‍य युवती से हुआ प्‍यार, मामला थाने पहुंचा

केंद्र सरकार द्वारा राय सलीम भट्टी को वीजा न देने पर पंजाब के मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा है कि यह खेदजनक है कि सिखों के पहले गुरु को सैकड़ों एकड़ भूमि देने वाले परिवार को भारत का दौरा करने से केंद्र सरकार ने इंकार कर दिया। इससे पहले केंद्र सरकार ने पंजाब के मंत्रियों के प्रतिनिधिमंडल को पाकिस्तान जाने की अनुमति देने से भी मना कर दिया था।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

यह भी पढ़ें: कमाल की शादी, साइकिल पर दूल्‍हा और बरात, दुल्‍हन को भी इसी अंदाज में विदा करा कर लग गया

 

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!