अमृतसर [पंकज शर्मा]। खालिस्तान जिंदाबाद व रेफ्रेंडम-2020 नारों का दायरा अब श्री हरिमंदिर साहिब के आसपास से बाहर निकलकर पॉश कॉलोनियों व शिक्षण संस्थानों तक पहुंच गया है। इसके चलते महानगर में दहशत का माहौल है। लोग जानना चाहते हैं कि कौन लोग इस तरह के नारे दीवारों पर लिखकर लोगों में डर का माहौल पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं, जबकि अभी तक पुलिस ने इस मामले को लेकर अमृतसर में एक भी केस दर्ज नहीं किया है।

रविवार को महानगर के पॉश इलाके रंजीत एवेन्यू के ए ब्लॉक और बी ब्लॉक के रिहायशी व कामर्शियल स्थानों में दीवारों पर लिखे नारों ने लोगों में दहशत पैदा कर दी। यही नहीं, नारे लिखने वालों ने शहर के शिक्षण संस्थानों को भी नहीं छोड़ा। खालसा कॉलेज, खालसा कॉलेज फार वूमेन, जीएनडीयू के आसपास भी दीवारों पर नारे लिखे गए हैं।

करीब दो माह पूर्व पंजाब के अन्य जिलों में भी इस तरह के नारे लिखने के साथ-साथ बैनर व पोस्टर भी लगाए गए थे। उन बैनरों को पुलिस ने उतार दिया था। पुलिस ने अज्ञात लोगों पर मामले दर्ज किए थे। दिवाली के पास ये नारे हरिमंदिर साहिब के आसपास की इमारतों की दीवारों पर नारे लिखे गए थे। डीसीपी अमृतसर एएस पुआर का कहना है कि उन्हें इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है। वे नारे लिखने वालों का पता लगाएंगे और मामला भी दर्ज करेंगे।

यह भी पढ़ेंः साथी किरायेदार नाबालिग लड़की को बंधक बनाकर करते रहे गैंगरेप

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!