अमृतसर/तरनतारन, जेएनएन। पंजाब में आतंकियों और संदिग्‍धों की हलचल से दहशत बढ़ गई है। शुक्रवार शाम तरनतारन शहर में चार हथियारबंद लोगों को देखे जाने से सनसनी फैल गई। इसके साथ गुरदासपुर रेलवे स्‍टेशन से तीन संदिग्‍धों को हिरासत में लेने की सूचना है। दूसरी ओर, अमृतसर में पाकिस्‍तानी ड्रोन के मामले में एक और आतंकी को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में अब तक नौ आतं‍कियों को गिरफ्तार किया गया है। इनपुट मिला है कि राज्‍य में दीपावली या उससे पहले बड़े आतंकी धमाके होने का खतरा है। इसके मद्देनजर पुलिस और सुरक्षा बलों को अलर्ट कर दिया गया है। सुरक्षा एजेंसियों को आशंका है कि पाकिस्‍तान से बारुद और विस्‍फोटक यहां आ चुका है।

पाकिस्‍तानी ड्रोन मामले में एक और आतंकी गिरफ्तार, अब नौ पकड़े जा चुके हैं

तरनतारन शहर में शुक्रवार शाम को चार संदिग्ध लोग हथियारों के साथ देखे गए। इससे सनसनी फैल गई और  पुलिस पूरी तरह से चौकस हो गई। बताया जाता है कि एक संदिग्ध को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। हालांकि इस बाबत कोई अधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई। शहर के प्रताप सिनेमा के पास शाम पांच बजे संदिग्ध लोगों को हथियारों समेत देखने की खबर फैल गई। इसके बाद पुलिस ने नाकाबंदी कर दी है। पूरे क्षेत्र में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। एक प्रत्‍यक्षदर्शी के अनुसार, पांच हथियारबंद देखे गए। एक को तो पकड़ लिया गया, लेकिन बाकि चार लोग भाग गए। हालांकि पुलिस किसी के पकड़े जाने की पुष्टि नहीं कर रही है।

तरनतारन में संदिग्‍ध देेखे जाने के बाद क्षेत्र के लोगों से पूछताछ करते पुलिसकर्मी।

गुरदासपुर रेलवे स्‍टेशन से तीन संदिग्‍ध लोगों को हिरासत में लिया गया

शुक्रवार को दोपहर बाद गुरदासपुर सिटी पुलिस ने रेलवे स्टेशन से तीन संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया। इसके बाद से पुलिस अधिकारियों में गतिविधियां एक दम से बढ़ गई हैं, लेकिन फिलहाल कोई भी कुछ बताने को तैयार नहीं है। पुलिस ने शहर और आसपास के क्षेत्र में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। इसके साथ ही चेकिंग बढ़ा दी गई है।

गुरदासपुर में चेकिंग करते पुलिसकर्मी।

उधर, शुक्रवार को स्टेट स्पेशल आपरेशन सेल ने पाकिस्तान से हथियार लेकर आए ड्रोन को नष्ट करने और हथियार ठिकाने लगाने के मामले में शुक्रवार को एक और आतंकी रोबिन जीत को गिरफ्तार किया गया है। स्टेट स्पेशल आपरेशन सेल ने  तरनतारन के झब्‍बाल निवासी आतंकी रोमन दीप सिंह को गिरफ्तार किया हैI इसके साथ ही पुलिस ने बॉर्डर के साथ बसे गांवों से करीब 12 संदिग्धों को भी राउंडअप किया हैI पूछताछ की जा रही है कि ड्रोन ठिकाने लगाने वाले कितने लोग शामिल थेI

जर्मनी से भी हो रही है फंडिंग, पाकिस्‍तानी एजेंसी आइएसआइ की दीपावली या उससे पहले धमाकों की तैयारी

उध्रर, पिछले दिनों गिरफ्तार किए गए खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स (केजेडएफ) के आतंकियों से पूछताछ में कई सनसनीखेज खुलासे हुए हैं। खुलासा हुआ है कि आतंकियों को पंजाब में विस्‍फोट के लिए जर्मनी से दस लाख रुपये की फंडिंग हो चुकी है। पकड़े गए आतंकियों से पूछताछ में यह जानकारी मिलने के बाद खुफिया एजेंसियों की चिंता बढ़ गई है। भारत-पाक सीमा पर लगातार मिल रही हेरोइन और हथियारों की खेप के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने आशंका जताई है कि आइएसआइ व पाक में बैठे खालिस्तान समर्थकों ने भारत में बारूद की खेप भेज दी है।

कोर्ट में पेश करने लाए गए खालिस्‍तानी आतंकी।

लगातार हो रही हथियारों की बरामदगी से सुरक्षा एजेंसियों की चिंता बढ़ी

बताया जाता है कि सुरक्षा एजेंसियों को इनपुट मिले हैं आइएसआइ व पाकिस्‍तान में रह रहे खालिस्तान समर्थकों द्वारा भारत में बारूद की खेप भेजने की आशंका दीवाली या फिर दीवाली से पहले पंजाब में धमाके का षडयंत्र रचा जा रहा है। पूरे मामले में कोई भी अधिकारी खुलकर बताने को तैयार नहीं है। उधर, वीरवार की शाम स्टेट स्पेशल ऑपरेशन सेल द्वारा गिरफ्तार सात आतंकियों को कोर्ट में पेश किया गया। न्यायाधीश मीनाक्षी महाजन ने सातों को नौ अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया है।

कोर्ट ने सातों आतंकियों को भेजा नौ अक्टूबर तक पुलिस रिमांड पर

मामले की जांच कर रहे एक अफसर ने बताया कि पकड़े गए आतंकी बलवंत ङ्क्षसह उर्फ बाबा, आकाशदीप सिंह, हरभजन सिंह, बलबीर सिंह, गुरदेव सिंह, शुभप्रीत सिंह और मान सिंह ने पुलिस पूछताछ में स्वीकार किया है कि जर्मनी में रह रहे गुरमीत सिंह उर्फ बग्गा उर्फ डॉक्टर के माध्यम से दस लाख रुपये की फंडिंग हो चुकी है। उक्त राशि को बांटा जाना बाकी था और इसके बाद आतंकी हमलों को अंजाम देने वाले थे। बताया जा रहा है कि सारा पैसा हवाला के जरिए भारत पहुंचा है।

कोर्ट में पेश करने लाए गए खालिस्‍तानी आतंकी।

हवाला कारोबारियों पर भी नजर

हवाला के जरिए आतंकी हमलों में होने वाली फंडिग की खबर का पता चलते ही पंजाब पुलिस की खुफिया शाखा की नजर हवाला कारोबारियों पर भी लगी है। हालाकि आरोपितों से किसी हवाला कारोबारी का नाम पता नहीं लग सका है। बताया जा रहा है कि उक्त फंडिंग इतने गुप्त तरीके से करवाई गई है कि पकड़े गए किसी आरोपित को यह नहीं पता है कि पैसे कहां और किसके पास पड़े हैं।

यह भी पढ़ें: शरीर पर बने टैटू ने खोल दिया महिला का राज, दुष्‍कर्म का आरोपित बरी, जानें ऐसा क्‍या लिखा था

कोर्ट में पेश करने लाए गए खालिस्‍तानी आतंकी।

22 सितंबर को पकड़े गए थे चार आतंकी

उल्लेखनीय है कि 22 सितंबर को स्टेट स्पेशल ऑपरेशन सेल और काउंटर इंटेलिजेंस की टीम ने होशियारपुर निवासी बलवंत सिंह, हरभजन सिंह, बलबीर सिंह और अमृतसर के खापडख़ेड़ी निवासी आकाशदीप सिंह को गिरफ्तार किया था। आरोपितों के कब्जे से हथियार भी मिले थे जो ड्रोन के जरिये पाकिस्तान की ओर से भेजे गए थे। पूछताछ के बाद जर्मनी बैठे आतंकी गुरमीतसिंह उर्फ बग्गा के भाई गुरदेव सिंह को होशियारपुर से और तरनतारन के शुभदीप सिंह को गिरफ्तार किया गया। जेल में बंद आतंकी मान सिंह को भी प्रोडक्शन वारंट पर लाया गया।

 पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!