पटना [जेएनएन]।  अगले विधानसभा चुनाव (Assembly Election) में बिहार में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) का चेहरा मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) होंगे या नहीं, इसपर भारतीय जनता पार्टी (BJP) में एक राय नहीं दिख रहा। नीतीश के समर्थन में सामने आए उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी (Sushil Modi) के बयान को पार्टी के प्रदेश उपाध्‍यक्ष मिथिलेश तिवारी (Mithilesh Tiwary) व मंत्री प्रेम कुमार (Prem Kumar) व सीपी ठाकुर (CP Thakur) ने खारिज कर दिया है। लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) सुप्रीमो रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) ने नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को ही एनडीए का चेहरा माना है।
उधर, राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) नेता तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) ने सुशील मोदी को नीतीश कुमार का आदमी बताते हुए कहा कि उन्‍हें नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के चेहरे पर विश्‍वास नहीं है।
मुख्‍यमंत्री चेहरा पर खड़ा हुआ विवाद
आगामी विधानसभा चुनाव में बिहार एनडीए के मुख्‍यमंत्री चेहरा (CM Face) नीतीश कुमार हैं। उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी पहले ही इसकी घोषणा कर चुके हैं। लेकिन बीते दिन बीजेपी एमएलसी संजय पासवान (Sanjay Paswan) ने नीतीश कुमार को मुख्‍यमंत्री का पद छोड़ केंद्र की राजनीति करने की सलाह दे भूचाल खड़ा कर दिया। इस मामले में बीजेपी व जनता दल यूनाइटेड (JDU) के बीच तनातनी भरे बयान जारी किए गए।
सुशील मोदी ने कही ये बात, हुआ विवाद
मामले में नया मोड़ बुधवार को उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi ) के ट्वीट के साथ आया। उन्‍होंने लिखा कि 2020 का विधानसभा चुनाव भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। उन्‍होंने लिखा कि नीतीश कुमार बिहार में एनडीए के कैप्टन हैं और 2020 के विधान सभा चुनाव में भी कैप्टन बने रहेंगे। जब कैप्टन हर मैच में चौका-छक्का लगा रहा हो और विरोधियों की पारी से हार हो रही हो तो किसी बदलाव का सवाल ही कहां उठता है?
सुशील मोदी के इस ट्वीट काे बीजेपी के प्रदेश उपाध्‍यक्ष मिथिलेश तिवारी ने खारिज कर दिया। कहा कि मुख्‍यमंत्री का चेहरा कौन होगा, यह फैसला राष्‍ट्रीय नेतृत्‍व करेगा। इस संबंध में सुशील मोदी के बयान को उन्‍होंने निजी विचार करार दिया। नीतीश सरकार में मंत्री व बीजेपी के वरीय नेता प्रेम कुमार ने भी कहा कि मुख्‍यमंत्री का चेहरा पार्टी अध्‍यक्ष व प्रधानमंत्री तय करेंगे।
इसके बाद गुरुवार को बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्‍यक्ष व पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. सीपी ठाकुर ने भी सुशील मोदी के बयान का विरोध किया। उन्‍होंने कहा कि एेसे ममलों में पहले पार्टी फैसला करती है। हाल ही में संपन्‍न कोर कमेटी की बैठक में ऐसा कोई फैसला नहीं हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) भी इन दिनों व्‍यस्‍त हैं। जब कोई फैसला हो जाए तो इस मामले पर बयान देना उचित होता। डॉ. ठाकुर ने यह भी कहा कि बिहार कैबिनेट (Bihar Cabinet) में बीजेपी का प्रतिनिधि होने के नाते भी सुशील मोदी को ऐसा बयान नहीं देना चाहिए था।
तेजस्‍वी ने भी जमकर कसे तंज
बीजेपी में सुशील मोदी के ट्वीट के खिलाफ स्‍वर उठे तो आरजेडी ने भी एनडीए तथा नीतीश कुमार व सुशील मोदी को आड़े हाथों लिया। आरजेडी प्रवक्ता और सांसद मनोज झा (Manoj Jha) ने कहा कि उनकी पार्टी नीतीश कुमार व सुशील मोदी के रिश्ते के तमाशे को हास्य और विनोद की नज़रों से देखती है। सुशील मोदी को नीतीश कुमार का आभारी होना चाहिए। इसके बाद देर रात पटना पहुंचे तेजस्‍वी यादव ने सुशील मोदी को नीतीश कुमार का आदमी करार दिया।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समर्थन में सुशील मोदी के ट्वीट के बाद तेजस्वी ने कहा कि सुशील मोदी ने साफ कर दिया है कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के चेहरे पर भरोसा नहीं है। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार का चेहरा बड़ा है। किंतु उन्हें यह भी बताना चाहिए कि लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) में उन्होंने अपने काम के ऊपर नहीं, बल्कि नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के चेहरे पर वोट क्यों मांगा?
उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार अगर वाकई अच्छे कप्तान हैं तो बिहार में अकेले चुनाव लड़कर देख लें। इससे पता चल जाएगा कि कौन कितने पानी में है। तेजस्वी ने सुशील मोदी पर नीतीश मैन (Nitish Man) होने का आरोप लगाया और कहा कि बीजेपी के कई नेता ऐसा दावा करते हैं। 
यह भी पढ़ें:
Jharkhand Assembly Election से CM नीतीश को बड़ी उम्‍मीद, JDU को मिल सकता राष्ट्रीय दल का दर्जा
मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामला: SC का फैसला- पीडि़त लड़कियों को दें मुआवजा, आठ को करें परिवार के हवाले

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप