नई दिल्ली,एजेंसी। भारी बारिश के बाद बाढ़ से केरल बुरी तरह तबाह हो गया है। राज्य में विकास कार्यों के लिए अब वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने तीन मंत्रियों नरेंद्र सिंह, हर्षवर्धन और नितिन गडकरी को पत्र लिखकर मदद मांगी है। बता दें कि केरल में बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित वायनाड क्षेत्र ही है। एक महीने के अंदर राहुल गांधी दूसरी बार अपने संसदीय क्षेत्र का दौरा करने वाले हैं।

     

राहुल गांधी ने नितिन गडकरी को सोमवार को लिखे पत्र में कहा कि उनके संसदीय क्षेत्र, जो तीन जिलो वायनाड, मलाप्पुरम और कोझिकोड जिलों में फैला हुआ है। आठ अगस्त को हुई बारिश और फिर बाढ़ से ये बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। गांधी ने अपने पत्र में ये भी लिखा कि उनके संसदीय क्षेत्र में अधिकांश सड़कें एंव अन्य संचार संपर्क के माध्यम पूरी तरह से बर्बाद हो चुके हैं। 
गौरतलब है कि पिछले साल भी बाढ़ से केरल में बुरी तरह से तबाही हुई थी। इस साल बाढ़ और बारिश से जुड़ी अलग-अलग घटनाओं में करीब 100 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके है। अकेले वायनाड में मरने वालों की संख्या 124 थी। वहीं राज्य के मल्लप्पुरम जिले में 60 लोगों की जान गई थी। बाढ़ से केरल के कई हिस्सों में आई बाढ़ से हडारों लोग प्रभावित हुए हैं, जबकि जानमाल का व्यापक नुकसान हुआ है। 

केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री से गुजारिश 
केरल में बाढ़ और भूस्‍खलन से हजारों लोग बेघर हो गए है। राहुल ने इनका हवाला देते हुए केंद्रीय ग्रामीण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से पत्र में अनुरोध किया है कि वह मनरेगा के तहत न्‍यूनतम 100 दिनों के लिए मिलने वाली रोजगार गारंटी की अवधि बढ़ाकर 200 दिन कर दे। साथ ही स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हर्षवर्धन से अनुरोध किया है कि वह  वायनाड में नए मेडिकल राहत शिविर बनाएं।

ये भी पढ़ें : J&K पर गृह मंत्रालय की उच्च स्तरीय बैठक आज, राज्य का दौरा करेगी अल्पसंख्यक मंत्रालय की टीम

ये भी पढ़ें : VIDEO: दिवंगत अरुण जेटली के घर पहुंचकर पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि, अमित शाह भी मौजूद

Posted By: Ayushi Tyagi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप