भोपाल, पीटीआइ। मध्य प्रदेश कांग्रेस में प्रमुख पद के लिए जद्दोजहद के बीच वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया मंगलवार को नई दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने वाले हैं। यह मुलाकात ऐसे समय में होने जा रही है जब राजनीतिक हलकों में कयास लगाया जा रहा है कि सिंधिया की नजर मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी (एमपीसीसी) के अध्यक्ष पद पर है। वर्तमान में मुख्यमंत्री कमलनाथ के पास ये पद है, लेकिन वो अपने किसी करीबी को इस पद पर बैठाना चाहते हैं।

वहीं, ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में उनके कुछ समर्थकों ने अपने नेता को मध्य प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष नहीं बनाए जाने पर पार्टी छोड़ने की धमकी भी दी। यही नहीं उनमें से एक कार्यकर्ता ने पिछले हफ्ते ग्वालियर स्टेशन के पास खुदकुशी की कोशिश भी की।

ज्योतिरादित्य सिंधिया जो पिछले साल कमलनाथ से मुख्यमंत्री पद की रेस हार गए थे, मंगलवार को नई दिल्ली में सोनियां गांधी से मुलाकात करेंगे। कांग्रेस के एक नेता ने सोमवार को पीटीआई को बताया कि सोनिया गांधी ने सीएम कमलनाथ से मुलाकात के लगभग तीन दिन बाद सिंधिया को बुलाया है।

बता दें कि सोनिया गांधी ने प्रदेश कांग्रेस के मौजूदा विवाद को वरिष्ठ नेता एके एंटनी की अगुआई वाली केंद्रीय अनुशासन समिति को जांच के लिए भी सौंप दिया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री को भी दो टूक संदेश दे दिया कि सरकार के संचालन में बाहरी दखल की शिकायतें ठीक नहीं है।

उमंग सिंघार से नाराज हाईकमान

हाईकमान को ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके करीबी प्रदेश सरकार के मंत्री उमंग सिंघार की घर के विवाद को सड़क पर लाने का रवैया पसंद नहीं आया। इसीलिए दोनों पक्षों को कसने के लिए वरिष्ठ नेता एंटनी को विवाद जल्द थामने का जिम्मा सौंपा गया है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ए के एंटनी की अध्यक्षता वाला पैनल अगले सप्ताह तक सोनियां गांधी को अपनी रिपोर्ट सौंप सकता है।

ये भी पढ़ें- तमाम प्रयासों के बाद भी नहीं थम रहा मप्र कांग्रेस में आया सियासी भूचाल

ये भी पढ़ें- एमपी कांग्रेस के घमासान पर सख्त सोनिया ने अपनाया कड़ा रुख, कहा- बड़बोले नेताओं पर होगी कार्रवाई

Posted By: Manish Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप