राउरकेला, जेएनएन। Big Boss कंफेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावेडकर से टीवी शो बिग बॉस के प्रसारण पर तत्काल रोक लगाने की मांग की है। सीरियल में बेहद अश्लील और फूहड़पन के दृश्य होने का हवाला देकर कैट ने कहा है कि इसे घरेलू माहौल में देखना मुश्किल है। साथ ही कहा कि यह देश के पारंपरिक सामजिक और सांस्कृतिक मूल्यों की धज्जियां उड़ा रहा है।

टीआरपी और मुनाफे के लिए सामाजिक समरसता को धूमिल करने के प्रयास को विविध संस्कृति वाले देश में अनुमति नहीं दी जा सकती। कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बृजमोहन अग्रवाल एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न केवल भारत में, बल्कि उच्चतम विश्व मंचों पर भी देश के सांस्कृतिक मूल्यों की जबरदस्त पैरोकारी की हैं। लिहाजा मामले को तत्काल देखा जाना चाहिए।

खुला तथ्य है कि यह शो विवादित रहा है। इसमें अश्लीलता का बोलबाला रहा है। लेकिन इस बार शो ने नैतिकता की सभी हद पार कर दिया है। शो की सामग्री आपत्तिजनक और लोगों को उकसाने वाली है। शो में दिखाया जा रहा 'बेड फ्रेंड फॉर एवर' की अवधारणा देश की मूल सांस्कृतिक और सामजिक भावना एवं फिल्म और टेलीविजन के लिए स्थापित नैतिक मानदंडों के खिलाफ है।

सीरियल के निर्माता भूल गए कि टीवी पर प्राइम टाइम स्लॉट है और जब यह प्रसारित होता है, सभी उम्र के लोग इसे देखते हैं। केवल शो ही नहीं बल्कि प्रतियोगियों को मिलने वाले टास्क भी मानवीय और सांस्कृतिक मूल्यों का चीरहरण कर रहे हैं। सीरियल की सामग्री का स्तर बेहद सस्ता है। फिल्म अगर सेंसर बोर्ड के अधीन है तो सीरियल क्यों नहीं। सीरियल के मेजबान सलमान खान एवं निर्माता और निर्देशक शो के संचालन के लिए बराबर जिम्मेदार हैं।

गोबर से निकाली कमाई की राह, बीस तरह की वस्तुएं हो रही है तैयार

ओडिशा की अन्य खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप