भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। बीजद नेता तथा पश्चिम ओडिशा विकास परिषद के अध्यक्ष सुभाष चौहान का निधन हो गया है। वह लीवर एवं कैंसर से पीड़ित थे तथा भुवनेश्वर के एक निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था, जहां उन्होंने अंतिम श्वास ली है। मृत्यु के समय उनकी उम्र 54 साल थी। 

सुभाष चौहान लीवर कैंसर से पीड़ित थे। 30 अप्रैल से उनका भुवनेश्वर में इलाज चल रहा था। रात 3 बजकर 5 मिनट पर उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। जानकारी के मुताबिक वर्ष 2019 आम चुनाव से पहले भाजपा छोड़कर वह बीजद में शामिल हुए थे। सुभाष राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) में करीबन 30 साल तक काम किया है।

संघ के प्रचारक के तौर काम करने के साथ विश्व हिन्दू परिषद का सदस्य रहने के साथ बजरंग दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर भी वह कार्य कर चुके थे। सन् 1995 से 2000 तक वह हिन्दू जागरण मंच के राज्य अध्यक्ष, सन् 2000 से 2003 तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह राष्ट्रीय प्रचारक, 2001 में हिन्दू जागरण मंच के संयोजक भी रह चुके थे। 2003 से 2006 तक बजरंग दल के राज्य संयोजक, 2006 से 2007 तक बजरंग दल के जोनल संयोजक रह चुके थे।

इतना नहीं नहीं 2010 से 2012 तक उन्होंने बजरंग दल के राष्ट्रीय संयोजक का दायित्व भी निभा चुके थे। इसके बाद वह बाद में वह राजनीति में आए और भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर 2014 में बरगड़ लोकसभा सीट से चुनाव लड़े थे। इस चुनाव में उन्हें 3 लाख 72 हजार वोट मिले थे। हालांकि 2019 आम चुनाव में भाजपा से टिकट नहीं मिलने पर वह भाजपा से इस्तीफा देकर बीजद में शामिल हो गए थे। सितम्बर 2019 में उन्हें पश्चिम ओडिशा विकास परिषद के अध्यक्ष के तौर पर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने नियुक्ति दी थी।

LIVE Coronavirus Maharashtra इस राज्‍य में 786 पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित, सात की मौत

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021