लंदन, प्रेट्र। वैज्ञानिकों ने धरती से महज 21 प्रकाश वर्ष की दूरी पर एक सुपर अर्थ की खोज की है। धरती से मिलते-जुलते इस ग्रह पर जीवन के संकेत मिले हैं। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि इस ग्रह पर पानी उपलब्ध है।

वैज्ञानिकों ने रेडियल वेलोसिटी तकनीक की मदद से इस ग्रह की जानकारी जुटाई है। उन्होंने बताया कि इस ग्रह का द्रव्यमान धरती से दो से तीन गुना तक है। यह अपने तारे जीजे-625 से ऐसी दूरी पर है, जो जीवन के योग्य मानी जाती है। हमारे सौरमंडल के नजदीक यह ऐसा छठा सुपर अर्थ है, जो अपने ग्रह से इस तरह की दूरी पर है।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान में 41 आतंकी समूह फेसबुक पर सक्रिय

इसका तारा रेड ड्वार्फ की श्रेणी का है। ये ऐसे तारे होते हैं, जिनके इर्द-गिर्द ग्रह हो सकते हैं। अब तक ऐसे कुछ सौ तारे पहचाने जा सके हैं। वैज्ञानिक अलेजांद्रो सुआरेज ने कहा, 'जीजे-625 अपेक्षाकृत ठंडा तारा है। खोजा गया ग्रह इससे ऐसी दूरी पर है जहां पानी तरल रूप में रह सकता है। इसके पर्यावरण और घूमने की गति सही हुई तो इस पर जीवन संभव है।'

यह भी पढ़ें: आमिर खान की 'दंगल' ने चीन में कमाए 1000 करोड़

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस