बीजिंग, प्रेट्र : परमाणु क्षमता से लैस भारत के अंतरद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-5 से चीन हैरान है। उसने इसका परीक्षण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के नियमों के मुताबिक होने और इससे दक्षिण एशिया का सामरिक संतुलन नहीं गड़बड़ाने की उम्मीद जताई है। साथ ही कहा है कि भारत उसका प्रतिद्वंद्वी न होकर साझेदार है।

पांच हजार किलोमीटर रेंज वाले अग्नि-5 का भारत ने सोमवार को परीक्षण किया था। इसे चीन पर लक्षित सामरिक मिसाइल माना जाता है, क्योंकि यह चीन के हर हिस्से में पहुंच सकता है। भारत के अलावा अमेरिका, रूस, फ्रांस, ब्रिटेन और चीन के पास ही यह मिसाइल है।

पढ़ें- चीन ने किया पांचवीं पीढ़ी के अत्याधुनिक लड़ाकू विमान एफसी-31 का परीक्षण

चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मंगलवार को अग्नि पांच का निशाना चीन को बताने वाली मीडिया रिपोर्टो की आलोचना की। उन्होंने कहा कि चीन का हमेशा से मानना है कि दक्षिण एशिया में सामरिक संतुलन और स्थिरता क्षेत्र में शांति और समृद्धि के अनुकूल है। दक्षिण एशिया में सामरिक संतुलन का तात्पर्य भारत और पाक के सैन्य संतुलन से है।

पढ़ें- ब्रह्मपुत्र के बहाने बांग्लादेश को भारत के खिलाफ खड़ा कर सकता है चीन

Posted By: Abhishek Pratap Singh