पुणे। अपने हाल के खराब प्रदर्शन पर निराशा व्यक्त करने के बजाय भारतीय सिंगल्स टेनिस खिलाड़ी सोमदेव देववर्मन ने एक नई रणनीति के तहत आगे बढ़ने का फैसला लिया है। उन्होंने तय किया है कि वो अब जंक फूड खाने से परहेज करेंगे, कोर्ट पर और समय बिताएंगे और इसके लिए उन्होंने एक नए कोच की भी नियुक्ति कर ली है।

एटीपी चैलेंजर टूर्नामेंट के दूसरे राउंड में एन.विजय के खिलाफ मिली हार के बाद सोमदेव को करारा झटका लगा। वो रोज ट्रेनिंग में पांच घंटे बिताते हैं जबकि टूर्नामेंट के दौरान तीन घंटे मेहनत करते हैं, इसके बावजूद लगातार दूसरे साल 2015 में उनका प्रदर्शन खराब रहा और वो रैंकिंग में 136 से फिसलकर 181वें पायदान पर पहुंच गए। पिछले 19 एटीपी चैलेंजर लेवल टूर्नामेंटों में वो 10 बार पहले ही राउंड में बाहर हो गए। सोमदेव ने इससे निपटने के लिए ग्रीस के थियोडोरोस एंजेलिनोस को अपना नया कोच बनाया है, जो कि उनके करीबी दोस्त भी हैं।

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

सोमदेव ने कहा, 'फिटनेस मेरी एक ताकत है और मैं अपनी ताकत पर काम करने में भरोसा रखता हूं। मैं उम्रदराज होता जा रहा हूं। इस साल मैं 30 वर्ष का हो गया हूं। मैंने जाहिर तौर पर जंक फूड और कुछ लजीज भारतीय पकवान भी खाना बंद कर दिया है। मैं अपनी डाइट को लेकर काफी गंभीर हूं।'

क्रिकेट से जुडी़ खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Shivam