जागरण संवाददाता, देहरादूनः प्रदेश में स्क्रैप और आयरन के कारोबारी सरकार को जमकर राजस्व की चपत लगा रहे हैं। देहरादून में आयरन की फैक्ट्री न होने के चलते एक तरफ स्क्रैप और आयरन डीलर टैक्स से पल्ला झाड़ रहे हैं और दूसरी तरफ फर्जी खरीद दिखाकर इनपुट टैक्स क्रेडिट (आइटीसी) का लाभ ले रहे हैं। हकीकत में स्क्रैप आदि स्थानीय स्तर पर ही एकत्रित किया जा रहा है। ऐसे ही एक मामले में स्टेट जीएसटी की विशेष अनुसंधान इकाई (एसआइबी) ने चूना भट्टा स्थित डीलर के प्रतिष्ठान पर छापा मारकर 95 लाख रुपये की कर चोरी पकड़ी।

पंजाब भेजा जा रहा था माल

स्टेट जीएसटी के संयुक्त आयुक्त विजय प्रकाश के मुताबिक अशारोड़ी स्थित मोबाइल स्क्वाड ने स्क्रैप के दो ट्रक पकड़े थे। यह माल पंजाब जा रहा था। पूछताछ में बताया गया कि माल कारगी चौक के एक डीलर का है। जब टीम कारगी चौक स्थित डीलर के प्रतिष्ठान पर पहुंची तो बताया गया कि माल चूना भट्टा के डीलर का है।

चूना भट्टा के डीलर से प्राप्‍त क‍िए दो बिल

विभागीय पूछताछ तेज होने की दशा में चूना भट्टा के डीलर से दो बिल प्राप्त कर लिए गए। इस बीच मोबाइल टीम ने तीन लाख रुपये का जुर्माना लगा दिया। वहीं, संदेह होने पर संयुक्त आयुक्त ने चूना भट्टा के डीलर की जांच के निर्देश जारी कर दिए।

एक करोड़ रुपये का स्टाक पाया ही नहीं

इस कड़ी में उपायुक्त (प्रवर्तन) यशपाल सिंह, सहायक आयुक्त जयदीप रावत व अमित कुमार ने चूना भट्टा स्थित डीलर के प्रतिष्ठान पर छापेमारी की। यहां पता चला कि डीलर की घोषणा के अनुरूप एक करोड़ रुपये का स्टाक पाया ही नहीं गया। साफ था कि कर चोरी के लिए एक ही माल की खरीद-फरोख्त अलग-अलग डीलर कर रहे हैं। इसके अलावा जांच में 72 लाख रुपये का कर कम जमा पाया गया। डीलर पर कुल 95 लाख रुपये की कर चोरी पकड़ी गई। इस राशि को जमा करने के लिए डीलर ने समय मांगा है।

Dehradun Crime News: देहरा आर्म्स पहुंचे अधिकारी, खोखों के रिकार्ड मिले गायब

Edited By: Sumit Kumar