राज्य ब्यूरो, कोलकाता : पंचायत चुनाव से पहले मुसलिम मतदाताओं को रिझाने के लिए प्रदेश भाजपा ने पहली बार गुरुवार को कोलकाता में अल्पसंख्यक सम्मेलन आयोजित किया। मोहम्मद अली पार्क में आयोजित इस सम्मेलन में सबसे चौकाने वाली बात यह रही कि हाल में भाजपा का दामन थामने के बाद सुर्खियों में रहीं इशरत जहां मंच से नदारद रही।

सुप्रीम कोर्ट में एक साथ तीन तलाक के खिलाफ मुकदमा दायर करने वाली हावड़ा की इशरत के भाजपा में शामिल होने के बाद उन पर सबकी नजर टिकी हुई थी कि इस मंच से वह तृणमूल के खिलाफ हल्ला बोलेगी और मुसलिम महिलाओं को संदेश देगी। परंतु सम्मेलन में उनकी उपस्थिति ने सबको चौंकाते हुए कई सवालों को जन्म दे दिया है।

हालांकि इशरत की कमी को कुछ हद तक सुप्रीम कोर्ट में उनका मुकदमा लड़ने वाली वकील नाजिया इलाही खान ने पूरी की। इशरत के बाद हाल में भाजपा में शामिल हुई इशरत ने इस मंच से तीन तलाक सहित अन्य मुद्दों पर सत्ताधारी तृणमूल को जमकर कोसा।

उन्होंने राज्य में अल्पसंख्यकों की स्थित पर ममता सरकार को घेरते हुए कहा कि सिर्फ वोट बैंक के लिए वह इनका इस्तेमाल कर रही है। नाजिया ने एक बार फिर एक साथ तीन तलाक को गलत बताते हुए इसे समाप्त करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा कानून बनाने की पहल की जमकर सराहना की।

इधर, इशरत के सम्मेलन में शामिल होने पर फिलहाल भाजपा के नेता कुछ भी बोलने से इन्कार किया है। सम्मेलन में राज्यभर से आए मुसलिम कार्यकर्ताओं व समर्थकों ने हिस्सा लिया।

यह भी पढ़ेंः केरल के मुख्यमंत्री की हेलीकॉप्टर यात्रा पर विवाद, SDRF उठाएगा खर्चा

यह भी पढ़ेंः अफजल गुरु ने किया था संसद पर हमला, बेटा 12वीं में लाया 88.2% अंक

Posted By: Gunateet Ojha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस