नई दिल्ली, विवेक तिवारी । देश में 5G टेलिकॉम सेवाएं शुरू हुए एक महीने से ज्यादा हो चुका है। हालांकि टेलिकॉम कंपनियां अभी चुनिंदा शहरों के चुनिंदा इलाकों में ही यह सेवा दे रही हैं। इन्फ्रास्ट्रक्चर, खासकर टावर के विस्तार के साथ सेवा का भी विस्तार हो रहा है। एक टेलिकॉम कंपनी के अधिकारी के अनुसार अभी बहुत कम ग्राहकों के पास 5G एनेबल्ड मोबाइल फोन हैं। मान लीजिए किसी टावर की क्षमता 100 यूजर की है और उसके दायरे में 5G फोन वाले सिर्फ 25 यूजर हैं, तो जाहिर है कि उन्हें अच्छी स्पीड मिलेगी। यूजर संख्या बढ़ने के साथ स्पीड पर भी असर होगा।

कंपनियों का कहना है कि पूरे देश में यह सेवा शुरू होने में अभी समय लगेगा। टेलिकॉम रेगुलेटर TRAI के प्रमुख डॉ पी.डी. वाघेला ने हाल ही में एक कार्यक्रम में कहा कि देश में मोबाइल नेटवर्क कनेक्टिविटी बेहतर बनाने में 5G महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। सरकार की प्राथमिकता है कि देश के सभी लोगों को बेहतर कनेक्टिविटी मिले।

आम लोगों के मन में 5G को लेकर अब भी काफी सवाल हैं। जागरण प्राइम टेलिकॉम कंपनियों, सेल्यूलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (COAI) के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) एस पी कोचर, IIT खड़गपुर के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. अमित कुमार दत्ता और टेलिकॉम एक्सपर्ट हेमंत उपाध्याय से बात करके उन सवालों के जवाब दे रहा है।

जियो और एयरटेल की सेवाएं किन शहरों में?

रिलायंस जियो ने मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई, वाराणसी, हैदराबाद, बेंगलुरू एवं नाथद्वारा में 5G सेवाएं शुरू की हैं। हालांकि इन जगहों पर भी पूरे शहर में सेवा अभी शुरू नहीं हो पाई है। कंपनी ग्राहकों को वेल्कम ऑफर के तहत एक जीबीपीएस से ज्यादा की स्पीड के साथ अनलिमिटेड डेटा दे रही है। एयरटेल ने दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, नागपुर, वाराणसी, सिलीगुड़ी, चेन्नई, हैदराबाद, पानीपत और गुरुग्राम में 5G सेवाएं शुरू की हैं। कंपनी ने 15 नवम्बर को गुड़गाँव में अपनी सेवाएं शुरू की हैं।

गुरुग्राम में एयरटेल की 5G सेवाएं कहां-कहां हैं?

गुरुग्राम में एयरटेल 5जी प्लस की सेवाएं चुनिंदा स्थानों पर उपलब्ध हैं। इनमें डीएलएफ साइबर हब, डीएलएफ फेज 2, एमजी रोड, राजीव चौक, इफको चौक, एटलस चौक, उद्योग विहार, निर्वाणा कंट्री, गुड़गांव रेलवे स्टेशन, सिविल लाइंस, आरडी सिटी, हुडा सिटी सेंटर, गुरुग्राम राष्ट्रीय राजमार्ग व कुछ अन्य स्थान शामिल हैं। एयरटेल पूरे शहर में अपनी सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए अपने नेटवर्क का शीघ्र विस्तार करेगी। भारती एयरटेल की दिल्ली-एनसीआर सर्किल की सीईओ निधि लौरिया ने गुरुग्राम में सर्विस शुरू करने के मौके पर कहा कि हम पूरे शहर में 5जी नेटवर्क चालू करने की प्रक्रिया में हैं। यह यूजर्स को गेमिंग, मल्टीपल-चैट, इंस्टेंट फोटो अपलोडिंग और एचडी वीडियो स्ट्रीमिंग जैसी गतिविधियों का अविश्वसनीय तेजी से ऐक्सेस प्रदान करेगा।

5जी नेटवर्क पर स्पीड कैसी मिल रही है?

जहां 5G सेवा शुरू हुई है उनमें ज्यादातर जगहों पर स्पीड अच्छी है। यूजर्स को एक जीबीपीएस तक की स्पीड मिल रही है। 

5जी क्या है?

यह 5वीं पीढ़ी का मोबाइल नेटवर्क है। 1G, 2G, 3G और 4G के बाद यह नया वैश्विक वायरलेस मानक है। इसे 4G से 30 गुना तक तेज माना जा रहा है। इसे मशीनों, वस्तुओं और उपकरणों सहित लगभग सभी को और सब कुछ एक साथ जोड़ने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

5G का आविष्कार किसने किया?

कोई एक कंपनी या व्यक्ति 5G का मालिक नहीं है। मोबाइल नेटवर्क इंफ्रास्ट्रक्चर में कई कंपनियां हैं जो 5G नेटवर्क को आपके इस्तेमाल के लायक बना रही हैं।

5G सर्विस का इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं?

सबसे पहले तो आपका फोन 5G इनेबल्ड होना चाहिए। फोन की सेटिंग्स में मोबाइल नेटवर्क में जा कर 5G सेवाओं को इनेबल करना होगा। रिलायंस जियो ग्राहकों को इसके लिए नया सिम लेना पड़ेगा। कंपनी के अनुसार महानगरों समेत प्रमुख शहरों में दिवाली के आसपास 5G का सिम मिलने लगेगा। दिसंबर 2023 तक देश के हर शहर में इसकी 5G सेवा शुरू हो जाएगी। एयरटेल के CEO गोपाल विट्ठल के मुताबिक कंपनी के सभी ग्राहकों के सिम पहले से ही 5G सुविधा के लिए सक्षम हैं।

पिछली पीढ़ियों के मोबाइल नेटवर्क और 5G में क्या अंतर है?

4जी की तुलना में 5जी कितना तेज है?

विभिन्न रिपोर्ट में इसे 100 गुना तेज बताया गया है। हालांकि, एयरटेल के अनुसार 4जी की तुलना में 5जी 20 से 30 गुना तेज होगा। 5G को IMT-2020 आवश्यकताओं के आधार पर 20 Gbps तक की पीक डेटा दर देने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसकी पीक डेटा दर 20 गीगाबिट-प्रति-सेकंड (Gbps) और औसत डेटा दर 100+ मेगाबिट-प्रति-सेकंड (Mbps) तक पहुंच सकती है। हाई स्पीड के अलावा 5G को अधिक नेटवर्क क्षमता प्रदान करने के लिए भी डिज़ाइन किया गया है।

5G का आम व्यक्ति के जीवन पर कैसे प्रभाव पड़ेगा ?

ले.जनरल (रि.) एस पी कोचर, डायरेक्टर जनरल ऑफ सेल्यूलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया कहते हैं कि 5G के जरिए हमें तेज़ डाउनलोड और अपलोड स्पीड मिलेगी, कई उपकरणों को एक साथ जोड़ा जा सकेगा। विशेष रूप से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI),आभासी वास्तविकता (VR) और IoT के क्षेत्र में ये काफी उपयोगी साबित होगा। संभव है कि आप अपने मोबाइल फोन में 5G का इस्तेमाल देर से करें लेकिन आपके जीवन में कई तरह के उपकरणों और सुविधाओं के जरिए इसका असर दिखना जल्द शुरू हो जाएगा। उदाहरण के लिए, क्लाउड सेवाओं तक तत्काल पहुंच, मल्टीप्लेयर क्लाउड गेमिंग, वास्तविक अनुभव के साथ ऑनलाइन खरीदारी और रियल-टाइम वीडियो अनुवाद जैसी बहुत सी सुविधाएं जल्दी मिलने लगेंगी।

दुनिया में किन क्षेत्रों में 5G का उपयोग किया जा रहा है?

टेलिकॉम एक्सपर्ट हेमंत उपाध्याय कहते हैं कि मोटे तौर पर, 5G का उपयोग तीन मुख्य प्रकार की कनेक्टेड सेवाओं में किया जाता है। इनमें एडवांस मोबाइल ब्रॉडबैंड, महत्वपूर्ण संचार और बड़े पैमाने पर IoT शामिल हैं। 5G को इस लिहाज से डिजाइन किया गया है कि इसका इस्तेमाल भविष्य की सेवाओं के लिए भी किया जा सके हैं।

क्या 5G होम इंटरनेट सेवा को बदल देगा?

5G मौजूदा ब्रॉडबैंड के लिए वायरलेस मॉडम विकल्प प्रदान करके घरेलू इंटरनेट सेवा को और बेहतर बना सकता है। इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी) अब 5जी इंफ्रास्ट्रक्चर का उपयोग करके ग्राहकों को बेहतर सेवा दे सकते हैं।

5G की सुविधा लेने के लिए क्या नया फोन चाहिए ?

हां, इसके लिए 5G इनेबल्ड स्मार्टफोन जरूरी है। उदाहरण के लिए, स्नैपड्रैगन 5G मोबाइल प्लेटफॉर्म द्वारा संचालित स्मार्टफोन 5G सेवा के लिए सक्षम हैं। लगभग सभी स्मार्टफोन कंपनियों ने 5G इनेबल्ड मोबाइल फोन लांच किए हैं। अपने फोन में सेटिंग्स या फीचर्स में जा कर ये चेक कर सकते हैं की आपका फोन 5G सर्विस को सपोर्ट करेगा कि नहीं। जैसे-जैसे 5G नेटवर्क का विस्तार होगा, अधिक स्मार्टफोन और कैरियर सब्सक्रिप्शन उपलब्ध होंगे।

क्या 5G सर्विस की कीमत क्या बहुत अधिक होगी?

टेलिकॉम कंपनियां 4G और 5G के टेरिफ में ज्यादा अंतर नहीं रखेंगी। विशेषज्ञों के मुताबिक 4G और 5G टैरिफ में अंतर अधिक होने पर ग्राहक 5G सेवा को अपनाने में संकोच करेंगे। अगर ग्राहक 5G सेवा को अपनाते हैं तो डेटा अधिक इस्तेमाल करेंगे जिससे टेलिकॉम कंपनियों को फायदा होगा।

5G की आगे क्या होगी प्राइसिंग?

दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव के मुताबिक 5G सेवाओं की कीमत बहुत अधिक नहीं होगी। उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा कि सरकार ये सुनिश्चित करेगी कि उपभोक्ताओं के लिए कीमतें सस्ती रहें। उन्होंने कहा, "सबसे पहले, यह एक व्यापक प्रस्ताव होगा। न केवल निजी क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियां, बल्कि बीएसएनएल भी 18 से 24 महीनों में 5जी सेवा शुरू करेगी।"

5G तकनीक के क्या बड़े फायदे होंगे?

5G एक इंटीग्रेटेड और सक्षम एयर इंटरफेस है। इसे मोबाइल नेटवर्क को सशक्त बनाने और नई सेवाएं देने के लिए बेहतर क्षमता के साथ डिजाइन किया गया है। 5G सुरक्षित परिवहन, टेलीमेडिसिन सेवा, सटीक कृषि आकलन और भविष्यवाणियां, डिजिटल लॉजिस्टिक्स और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) जैसी कई नई सेवाओं को हकीकत बनाएगा।

5G में स्पेक्ट्रम का उपयोग कैसे होता है?

टेलिकॉम एक्सपर्ट हेमंत उपाध्याय कहते हैं कि 5G को उपलब्ध स्पेक्ट्रम को रेगुलेटरी मानकों के तहत एक स्पेक्ट्रम के हर बिट का अधिकतम लाभ उठाने के लिए डिज़ाइन किया गया है - 1 गीगाहर्ट्ज़ से नीचे के निम्न बैंड से लेकर 1 गीगाहर्ट्ज़ से 6 गीगाहर्ट्ज़ के मध्य बैंड तक, मिलीमीटर तरंग के रूप में जाने जाने वाले उच्च बैंड तक।

क्या 5G के आने से 4G खत्म हो जाएगा?

नहीं। लेफ्टिनेंट जनरल एस पी कोचर के मुताबिक 4G और 5G काफी समय तक एक साथ उपलब्ध रहेंगे। ग्राहकों को भी 5G डिवाइस अपनाने में अभी कुछ समय लगेगा।

क्या 5G के इस्तेमाल से फोन की बैटरी लाइफ प्रभावित होगी?

हां, दुनिया के कई हिस्सों में जहां 5G सेवा शुरू हुई है वहां यूजर्स ने इसकी शिकायत की है। दरअसल स्पीड अधिक होने के कारण एक साथ कई एप्लीकेशन खुली होने पर भी ग्राहकों को पता नहीं चलता और उनके डिवाइस की बैटरी खत्म होती रहती है। कुछ मोबाइल गेम और सॉफ्टवेयर ज्यादा बैटरी की खपत करते हैं, उनसे आपकी बैटरी सामान्य से अधिक तेजी से समाप्त हो सकती है।

5G अभी किन देशों में इस्तेमाल हो रहा है?

ग्लोबल मोबाइल सप्लायर्स एसोसिएशन (GSA) के मुताबिक जनवरी 2021 तक 61 देशों के 144 ऑपरेटर्स ने 5G सर्विस की शुरुआत कर दी है। वहीं 131 देशों के 413 ऑपरेटर्स इसकी कोशिश में लगे हैं। Ookla के 5G नेटवर्क ट्रैकर के अनुसार, भारत बिना 5G नेटवर्क वाले प्रमुख देशों में से एक है। पाकिस्तान, अफगानिस्तान, नेपाल और बांग्लादेश जैसे भारत के पड़ोसी देशों में भी यह सेवा नहीं है, लेकिन श्रीलंका में है। एरिक्सन का अनुमान है कि 2027 तक दुनिया की 75% आबादी के पास 5G सेवा की एक्सेस होगी।

3GB डेटा कितनी देर में डाउनलोड होगा?

औसत गति से 3GB की मूवी डाउनलोड करने में इतना समय लगेगाः-

3जी: 1 घंटा, 8 मिनट

4जी: 40 मिनट

4जी एलटीई: 27 मिनट

गीगाबिट एलटीई: 61 सेकंड

5जी: 35 सेकंड

(स्रोतः technology information and advice)

स्वास्थ्य के लिहाज से 5G कितना सुरक्षित है?

IIT खड़गपुर के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. अमित कुमार दत्ता के मुताबिक 5G तकनीक पूरी तरह सुरक्षित है। इसे कई पैरामीटर पर चेक किया गया है। 4G की तुलना में 5G में कम पावर का इस्तेमाल किया जाता है।

5G का नेटवर्क कमजोर आ रहा हो तो क्या करना होगा?

5G नेटवर्क में ज्यादा टावर की जरूरत होती है। ऐसे में नेटवर्क कमजोर होने की संभावना कम है। लेकिन अगर ऐसा होता है तो छोटे एंटीना या बूस्टर लगा कर नेटवर्क को बूस्ट किया जा सकता है।

5G में भी कॉल ड्रॉप होगी?

कॉल ड्रॉप की समस्या का संबंध 4G या 5G से नहीं है। जब किसी टावर पर बहुत अधिक लोड होता है और आपके फोन को सिग्नल नहीं मिलता है तो कॉल ड्राप हो जाती है। 5G में आपको बेहतर नेटवर्क मिलेगा क्योंकि इसमें टावर संख्या अधिक होती है। अगर आपके फोन को हल्का सिग्नल भी मिलेगा तो बेहतर क्वालिटी मिलेगी।

क्या वर्तमान टावर ही काम आएंगे?

5G के लिए सात मीटर से ज्यादा कोई भी टावर या ऊंची जगह इक्विपमेंट लगाने के लिए काफी होगी। ऐसे में आने वाले समय में आपको अपने घर के पास किसी ऊंची बाउंड्री, बिजली या फोन के पोल जैसी जगहों पर भी 5G के ट्रांसमीटर लगे दिखाई देंगे।

5G का सबसे ज्यादा फायदा किसको होगा?

5G का सबसे ज्यादा फायदा कंपनियों को होगा। उनके लिए अपने सिस्टम को ऑटोमेट करना आसान होगा। इससे उनकी लागत घट जाएगी और प्रबंधन बेहतर होगा।

5G सेवाओं के चलते अर्थव्यवस्था को क्या फायदा होगा?

5G की सेवाएं सबसे पहले मेट्रो शहरों में ही मिलेंगी क्या?

5G की सेवाएं लागू करने के कुछ आधार हैं। सबसे पहले ये देखना होगा कि जहां सेवा देनी है वहां फाइबर उपलब्ध है कि नहीं। वहीं कंपनियां मांग और निवेश पर रिटर्न को भी ध्यान रखेंगी। सरकार की पॉलिसी को भी ध्यान में रखा जाएगा। लेकिन धीरे-धीरे शहरों और गांवों सभी जगहों पर 5G सेवा उपलब्ध करा दी जाएंगी।

अमेरिका में कुछ एयरलाइंस ने 5G का विरोध करते हुए कहा था कि इससे विमान के इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में दिक्कत आ सकती है। क्या भारत में भी ऐसी ही समस्या होगी?

अमेरिका में 5G अच्छी तरह से काम कर रहा है। दरअसल 5G नेटवर्क को बेहद सावधानी से और सभी तकनीकी पहलुओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है। ऐसे में किसी तरह की दिक्कत आने की संभावना न के बराबर है।

आपके इलाके में 5G सर्विस है या नहीं ये कैसे पता लगेगा?

कोई भी टेलीकॉम सेवा प्रदाता कंपनी अगर आपके इलाके में 5G सर्विस शुरू करेगी तो वो इसके बारे में प्रचार-प्रसार करेगी। कंपनियां उपभोक्ताओं को मैसेज या मेल के जरिए भी नई सेवा के विकल्प और टैरिफ के बारे में बता सकती है।

5G के लिए इक्विपमेंट क्या चीन से आए हैं?

नहीं। सरकार ने 5G सर्विस शुरू करने की किसी भी प्रक्रिया में चीनी कंपनियों के शामिल होने पर रोक लगा रखी है। पश्चिमी देशों की कुछ कंपनियों से 5G सर्विस शुरू करने में मदद ली जा रही है।

5G गांवों के लिए कितना उपयोगी है?

IIT खड़गपुर के डॉ. अमित कुमार दत्ता कहते हैं कि भारत के गांवों के लिए 5G बहुत उपयोगी है। 4G में बड़े टावर लगाने होते हैं, इसलिए सीमित टावर ही लगाए जाते हैं। लेकिन 5G में छोटे और बड़े कई टावरों का विकल्प है। किसी गांव में कम लोग रहते हैं तो वहां कुछ छोटे टावर लगा कर बेहतर सुविधा दी जा सकेगी।

क्या 5G फाइबर के जरिए मिलने वाली इंटरनेट सेवा से बेहतर होगा?

नहीं, फाइबर के जरिए मिलने वाली नेटवर्क सेवा 5G से बेहतर ही रहेगी। दरअसल 5G एक वायरलेस सेवा है। ऐसे में जहां भी टावर और रिसीवर के बीच अड़चन आएगी, तो नेटवर्क की गुणवत्ता प्रभावित होगी।

पूरे देश में 5G सेवाएं कब तक मिलने लगेंगी?

नेटवर्क ऑपरेटरों को अगले पांच साल में पूरे देश में 5जी नेटवर्क का विस्तार करना है। लेकिन नेटवर्क आप्रेटर जल्द से जल्द अपनी सेवाओं के विस्तार के लिए प्रयास कर रहे हैं। ।

5G सेवाएं शुरू करने के लिए बेस स्टेशन बनाने की क्या स्पीड है?

सरकार ने टेलिकॉम कंपनियों को हर हफ्ते लगभग 10000 5G बेस स्टेशन बनाने का लक्ष्य दिया है। लेकिन टेलिकॉम कंपनियां इस लक्ष्य से अभी काफी पीछे हैं।

Edited By: Vivek Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट