गुवाहाटी (जागरण संवाददाता)। असम-नगालैंड सीमा पर स्थित गोलाघाट के ¨हसा प्रभावित क्षेत्र का दौरा करने आए मुख्यमंत्री तरुण गोगोई पर आक्रोशित भीड़ ने हमला कर दिया। इसमें एक विधायक घायल हो गए, जबकि दो वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। सुरक्षाकर्मियों ने मुख्यमंत्री को सकुशल बाहर निकाल लिया है। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लाठियां भांजी, आंसू गैस के गोले छोड़े और हवाई फायरिंग की।

असम-नगालैंड के सीमावर्ती क्षेत्र में सोमवार को एक और शव मिलने से अब तक यहां हिंसा में मरने वालों की संख्या 16 पहुंच गई है। मुख्यमंत्री तरुण गोगोई के पहुंचते ही इलाके के लोगों ने उनके काफिले पर हमला बोल दिया। पुलिस ने भीड़ पर लाठी चार्ज कर नियंत्रण का प्रयास किया। बाद में आंसू गैस के गोले छोड़े और हवाई फायरिंग कर काबू पाया। मुख्यमंत्री को जल्द नजदीकी रेलवे स्टेशन पहुंचाया गया, जहां से वे दौरा अधूरा छोड़ अवध असम एक्सप्रेस से गुवाहाटी चले गए। इससे पहले उन्होंने राहत शिविरों का दौरा किया और हाल जाने। मुख्यमंत्री ने कहा कि पीड़ितों का दर्द समझ सकता हूं, लेकिन कानून हाथ में लेने पर सुरक्षा बल अपनी कार्रवाई करेंगे।

उल्फा ने नगा हमलावरों को दी चेतावनी

उग्रवादी संगठन यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असम ने सीमावर्ती जिले गोलाघाट में ¨हसा को लेकर नगा हमलावरों को चेतावनी दी है। उल्फा के चेयरमैन ने चेताया कि नगा विद्रोही किसी भी मासूम की हत्या नहीं करेंगे। उनकी लड़ाई आम लोगों से नहीं है।

पढ़ें: बंद से असम ठप, दार्जिलिंग बेहाल

पढ़ें: उग्रवादी हमले में दो पुलिसकर्मी शहीद

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस