नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी है और काफी समय बाद इसके अध्यक्ष पद के चुनाव होने वाले हैं, जिसकी प्रक्रिया शुरू हो गई है। एक तरफ राहुल गांधी भारत जोड़ों यात्रा निकाल रहे हैं। वहीं, दूसरी तरफ कांग्रेस के कई नेता पार्टी तोड़ो अभियान चला रहे हैं। कुछ दिनों पहले ही कांग्रेस के कद्दावर नेता गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया और अलग पार्टी बनाने का ऐलान किया। उनका इस्तीफा काफी चौंकाने वाला था, हालांकि ऐसा पहली बार नहीं हुआ, जब किसी बड़े नेता ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया हो। कांग्रेस छोड़कर अपनी पार्टी बनाने वाले नेताओं की लंबी फेहरिस्त है। इतिहास से लेकर अब तक कई बार कांग्रेस में टूट हुई है और इससे अलग पार्टी का गठन किया गया है। चलिए जानते हैं कि अब तक कांग्रेस पार्टी कितनी बार टूट चुकी है।

कांग्रेस का गठन कब हुआ?

कांग्रेस पार्टी की स्थापना आजादी से काफी पहले हुई थी। इसका गठन 28 दिसंबर 1885 को एलेन ओक्टेवियन ह्यूम (Allan Octavian Hume) ने किया था। एओ ह्यूम की अगुआई में मुंबई (तब बाम्बे) में पार्टी की पहली बैठक आयोजित की गई। कांग्रेस के संस्थापक सदस्य में एओ ह्यूम, दादा भाई नौरोजी और दिनशा वाचा शामिल थे। कांग्रेस के पहले अध्यक्ष व्योमेश चंद्र बनर्जी बने थे।

  • मोतीलाल नेहरू ने सबसे पहली बार कांग्रेस को तोड़ा था। उन्होंने चितरंजन दास के साथ मिलकर नई पार्टी का गठन किया, जिसे स्वराज पार्टी का नाम दिया गया। इसके बाद, सुभाषचंद्र बोस ने 1939 में अखिल भारतीय फारवर्ड ब्लाक के नाम से अलग पार्टी बनाई।
  • जेबी कृपलानी ने 1951 में कांग्रेस से हटकर अलग पार्ट बनाई। उन्होंने किसान मजदूर प्रजा पार्टी के नाम से नई पार्टी का गठन किया था। इसके बाद एनजी रंगा ने हैदराबाद स्टेट प्रजा पार्टी की स्थापना की। वर्ष 1956 में सी राजगोपालाचारी ने कांग्रसे छोड़ा और इंडियन नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी का गठन किया।
  • वर्ष 1959 में कांग्रेस में सबसे बड़ी टूट हुई थी। उस समय बिहार, राजस्थान, गुजरात और ओडिशा में कांग्रेस में टूट हुई थी। इसके बाद 1964 में केएम जार्ज केरल में कांग्रेस को तोड़ा और केरल कांग्रेस के नाम से नई पार्टी बनाई। वहीं, 1967 में चौधरी चरण सिंह कांग्रेस से अलग होकर भारतीय क्रांति दल के नाम से अलग पार्टी बनाई, बाद में इसी पार्टी को लोकदल के नाम से जाना गया।
  • देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को कांग्रेस ने 12 नवंबर 1969 को पार्टी से बर्खास्त कर दिया, जिसके बाद इंदिरा गांधी ने कांग्रेस (R) के नाम से नई पार्टी का गठन किया, जिसे बाद में कांग्रेस (I) नाम से जाना गया। वर्तमान में यही पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Indian National Congress) बनी।
  • वीपी सिंह ने 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के खिलाफ हो गए और उन्होंने जनमोर्चा के नाम से अपनी नई पार्टी बनाई। हालांकि बाद में जनमोर्चा भी कई टुकड़ों में बंट गई और जनता दल, जनता दल (यू), राजद और समाजवादी पार्टी का जन्म हुआ।
  • वर्ष 1999 के आसपास कांग्रेस में फिर से बगावत हुई और शरद पवार ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP), ममता बनर्जी ने तृणमूल कांग्रेस (TMC), YSR कांग्रेस, जनता कांग्रेस, बीजू जनता दल (BJD) का जन्म हुआ। इसके साथ ही जम्मू कश्मीर में मुफ़्ती मुहम्मद सईद ने PDP का गठन कर लिया।
  • अमरिंदर सिंह ने पिछले साल 2 नवंबर को कांग्रेस को पंजाब में झटका दिया और उन्होंने पंजाब लोक कांग्रेस (Punjab Lok Congress) नाम से नई पार्टी बनाई। लेकिन बाद में उन्होंने इसका विलय भाजपा में कर लिया।
  • सबसे अंत में इस वर्ष गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस का साथ छोड़ा और नई पार्टी बनाने का एलान कर दिया।

ये भी पढ़ें: आजादी के बाद से अब तक कितने नेहरू-गांधी परिवार के बाहरी लोग बने कांग्रेस अध्यक्ष?

ये भी पढ़ें: कैसे होता है कांग्रेस पार्टी में अध्‍यक्ष का चुनाव, यहां जानें पूरी प्रक्रिया

Edited By: Devshanker Chovdhary

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट