उन्नाव [अखिलेश उमराव]। तो क्या मंगलवार को खजाने का सच सामने आ सकता है? यह सवाल है, क्योंकि संत शोभन सरकार का दावा है कि 15 फीट के बाद खजाना मिलेगा। अब तक सोलह फीट तक खोदाई हो चुकी है। इसलिए मंगलवार को खोदाई का काम सबसे अहम होगा। हलांकि, अब तक एएसआइ व प्रशासन को खजाना मिलने का कोई प्रमाण हासिल नहीं हो सका। इसलिए अब सभी की निगाहें मंगलवार की खोदाई पर लगी हैं।

पढ़ें : डौंडियाखेड़ा गांव का तो वजूद ही नहीं

वहीं, सोमवार को संत शोभन सरकार के शिष्य स्वामी ओम जी ने कहा कि प्रशासन को काम में अब पारदर्शिता बरतनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अंदर जो सीसी कैमरे लगाए गए हैं। उनसे जोड़कर बाहर एलसीडी लगा दी जाये। जिससे लोग यह देख लें कि अंदर क्या चल रहा है।

राष्ट्रपति हस्तक्षेप कर निकलवाएं खजाना: शोभन सरकार

संत शोभन सरकार ने एक बार फिर अपील जारी की है। इसमें उन्होंने राष्ट्रपति से तत्काल हस्तक्षेप कर खजाना निकलवाने की मांग की गई। संत सरकार ने सोमवार को मीडिया को जो पत्र जारी किया उसमें हस्ताक्षर ओमबाबा के हैं। शोभन सरकार ने मीडिया से बातचीत में कहा कि यह अपील इसलिए जारी करनी पड़ी क्योंकि अब बहुत सवाल उठने लगे हैं। उन्होंने दोहराया कि एएसआइ के मानक पर खोदाई करके समय और पैसा व्यर्थ में बरबाद किया जा रहा। सेना लगाकर इस पूरे आपरेशन को 8 से 10 घंटे में पूरा किया जा सकता है। अपील में केंद्र व प्रदेश सरकार की नीयत पर भी सवाल उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं धनतेरस से पहले देश मालामाल हो जाये पर केंद्र व प्रदेश सरकार ऐसा नहीं चाह रहीं।

15 फीट तक पहुंची खोदाई :

खजाने की खोज में राजा राव रामबक्स सिंह के किले की खोदाई के दसवें दिन सोमवार को मिट्टी की सतह और टूटे खिलौनों के कुछ टुकड़े मिले। सोमवार को 1.45 मीटर खोदाई की गई। इस तरह अब तक कुल 4.8 मीटर तक खोदाई की जा चुकी है।

एसडीएम विजय शंकर दुबे ने काम बंद होने के बाद बताया कि आज 1.45 मीटर तक खोदाई का काम हुआ। कोई अवशेष नहीं मिल रहे। सामान्य जमीन वाली मिट्टी निकल रही है। वहीं संत शोभन सरकार ने सोमवार को किले के पास गंगा के अंदर करीब आधे घंटे तक पूजन अर्चन किया।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर