मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

कोलकाता (जेएनएन)। पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले में स्थित धूलागढ़ में एक धार्मिक जुलूस के दौरान दो समुदायों के बीच हुई सांप्रदायिक हिंसा में 25 से अधिक लोग घायल हो गए हैं।

बता दें कि मिलाद उन नबी के अवसर पर कुछ असामाजिक तत्वों ने एक धर्म के लोगों के घरों पर हमला कर आगजनी की थी और जमकर उत्पात मचाया था। जिससे सैकड़ों परिवार बेघर हो गए। स्थानीय लोगों की मानें तो उनके घरों पर देसी बमों से हमला कर आगजनी की गयी। आगजनी पर काबू पाने के लिए पुलिस को मौके पर पहुंचना पड़ा। पुलिस द्वारा उत्पातियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए और हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस को बल का प्रयोग करना पड़ा।

पढ़ें- भाजपा नेता ने की ममता पर अभद्र टिप्पणी, TMC बोली करेंगे कानूनी कार्रवाई

बंगाल में हिंदुओं को निशाना बना रही है तृणमूल : भाजपा

हावड़ा के धूलागढ़ में चल रही हिंसा पर बोलते हुए भाजपा के राष्ट्रीय सचिव व प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि जिन जगहों पर भाजपा मजबूत होती दिख रही है वहां तृणमूल के लोग हिंसा फैला रहे हैं। सत्तारूढ़ दल भाजपा के समर्थकों को डराने की कोशिश कर रहा है। साथ ही उन्होंने मुख्यमंत्री पर आरोप लगाया कि वह अल्पसंख्यक समुदाय को रिझाने के लिए तुष्टीकरण में लिप्त हैं। उन्होंने हावड़ा जिला भाजपा को मामले की शिकायत मानवाधिकार आयोग से करने का निर्देश दिया है।

धूलागढ़ में भाजपा प्रतिनिधिमंडल को रोका

भाजपा का प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को धूलागढ़ में हिंसा पीड़ित परिवारों से मिलने पहुंचा। भाजपा नेताओं ने आरोप लगाया कि यहां पुलिस कर्मियों ने उन्हें पीड़ित परिवारों से मिलने से रोका। हालांकि कुछ ग्रामिणों ने उनसे बातचीत की। पीड़ित परिवार के सदस्यों ने बताया कि वे सुरक्षा के अभाव में अपने घर नहीं जा पा रहे। प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे मदारीहाट से भाजपा विधायक मनोज टिग्गा ने कहा कि हम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से अपील करते हैं कि वह हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों को गिरफ्तार कर उन पर सख्त कार्रवाई करें एवं हिंसा पीड़ितों को सुरक्षा मुहैया करा उनके पुनर्वासन की व्यवस्था करें।

पढ़ें- राष्ट्रगान के अपमान के मामले में घिरी TMC की यह विधायक

पिलखाना में तनाव बरकरार

पिछले दो दिनों से उत्तर हावड़ा के पिलखाना इलाके में व्याप्त तनाव बरकरार है। रविवार की रात कुछ उपद्रवियों ने एक खास समुदाय के लोगों के मकानों में हमला कर तोड़फोड़ की। इसके बाद से लोग दहशत में आ गये। सूचना पाकर मौके पर पुलिस व आरएएफ को उतारा गया। इलाके में धारा 144 लागू की गयी है। बताया गया है कि मंगलवार सुबह फिर से उपद्रवियों ने लोगों को निशाना बनाना शुरू कर दिया। इसके बाद मौके पर काफी संख्या में आरएएफ, कॉमबैट फोर्स व पुलिस को उतारा गया।

पीड़ित लोगों का आरोप है कि पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर रही है। यही कारण है कि उनका मनोबल बढ़ रहा है। मंगलवार सुबह से इलाके की स्थिति बिगड़ने के बाद से पुलिस चप्पे-चप्पे पर तैनात है। पुलिस की तैनाती तक लोग सुरक्षित हैं। पुलिस के हटने के बाद फिर से लोगों पर हमले हो सकते हैं। इस बात को लेकर पीड़ित परिवार व लोग काफी सहमे हुए हैं।

पढ़ें- शादी के बाद गौना कराकर ससुराल आई दुल्हन, पति ने प्राइवेट पार्ट में डाला तेजाब

Posted By: Kishor Joshi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप