जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। चुनाव से ठीक पहले संप्रग सरकार ने जहां लुभावने वादों की सौगात देने का काम शुरू कर दिया है। वहीं, भाजपा ईपीएफ पेंशन के जरिये लाखों मतदाताओं को साधने की कोशिश करेगी। भाजपा अपने चुनावी घोषणापत्र में ईपीएफ पेंशनधारियों को प्रतिमाह न्यूनतम तीन हजार रुपये देने का वादा करेगी। संप्रग सरकार ने फिलहाल हजार रुपये देने का फैसला लिया है।

शुक्रवार से दिल्ली में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी और परिषद की बैठक है। देश के लगभग 50 लाख ईपीएफ पेंशनधारी मतदाताओं को यहीं से पहला वादा कर दिया जाएगा। पार्टी उपाध्यक्ष मुख्तार अब्बास नकवी ने बताया कि बैठक में आए लगभग दस हजार नेताओं, कार्यकर्ताओं के बीच राजनीतिक और आर्थिक प्रस्ताव रखे जाएंगे। आर्थिक प्रस्ताव में ही सरकार की वर्तमान पेंशन योजना की आलोचना करते हुए पार्टी अपना पासा फेंकेगी। पार्टी प्रवक्ता प्रकाश जावड़ेकर ने भी बताया कि भाजपा अपनी ओर से न्यूनतम तीन हजार रुपये प्रतिमाह पेंशन का प्रस्ताव रखेगी। फिलहाल लगभग 30 लाख ईपीएफ कर्मचारियों को मासिक हजार रुपये से कम, तो 20 लाख को 500 रुपये से भी कम पेंशन मिलती है।

सूत्रों के मुताबिक, भाजपा परिषद के बाद पार्टी अपने घोषणापत्र में भी इसे शामिल करेगी। पार्टी का कहना है कि अगर सरकार भी ईपीएफ में 8.33 फीसद हिस्सा डाले तो सभी कर्मचारियों को प्रतिमाह तीन हजार रुपये पेंशन मिल सकती है। नकवी ने बताया कि बैठक के बाद कार्यकर्ता 'मिशन सुशासन' और 'एक भारत श्रेष्ठ भारत' का नारा देकर घर-घर तक जाएंगे। उन्होंने दावा किया कि आम चुनाव में जनता स्पष्ट जनमत देकर राजग की सरकार बनाएगी। उन्होंने कहा, 'चार राज्यों के चुनाव नतीजों से साफ हो गया है कि जनता क्या चाहती है।'

पढ़ें: लच्छेदार भाषणों से देश नहीं चलता: मोदी

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस