नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। मानसून सत्र बाधित करने के आरोप से बिफरी कांग्रेस ने सरकार पर पलटवार किया है। राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद और लोकसभा में पार्टी नेता मल्लिकार्जुन खडग़े को मैदान में उतार कर पार्टी ने अपना पक्ष रखने के साथ सरकार को घेरा है। अपने तीखे हमले में कांग्रेस ने भाजपा को 'नीच' पार्टी बताते हुए कहा कि उसे देश चलाना नहीं आता। साथ ही कहा कि झूठी पार्टी के दावों पर जनता भरोसा न करे।

राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने शुक्रवार को कहा कि मोदी सरकार अपने वादों पर खरी नहीं उतरी इसलिए हमने 'इस्तीफा तब चर्चा' का निर्णय लिया था। आजाद ने कहा कि भाजपा के भीतर सत्ता का अहंकार है। उसे यह समझना चाहिए कि सिर्फ बहुमत से सबकुछ नहीं होता। सरकार को विपक्ष का सम्मान करना सीखना होगा। वहीं, लोकसभा में पार्टी नेता खडग़े ने कहा कि हमें संख्याबल से दबाने की कोशिश की गई। उन्होंने आरोप लगाया कि हमारे सांसदों पर की गई कार्रवाई सरकार के दबाव में हुई।

परिवार के बचाव में पार्टी

लोकसभा में 'परिवार' को निशाना बनाने से असहज कांग्रेस अपने नेताओं के बचाव में लगी है। पार्टी नेताओं ने गांधी परिवार की परंपरा का हवाला देते हुए कहा कि इंदिरा गांधी व राजीव गांधी ने देश की एकता अखंडता के लिए जान दी, हमें अपने नेताओं पर गर्व है। आजाद ने कहा कि भाजपा की दो ही उपलब्धियां हैं। सांप्रदायिक दंगे कराना व विकास के नाम पर कुछ व्यापारियों व मित्र पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाना। कांग्रेस ने अपने नेताओं को 20 अगस्त को अलग-अलग राज्यों में राजीव जयंती के कार्यक्रम में शिरकत करने के निर्देश दिए हैं।

देश भर में घेरने की तैयारी

सरकार के पर्दाफाश अभियान का मुकाबला करने के लिए कांग्रेस 'संसद से चौपाल' तक आंदोलन शुरू करने की तैयारी में है। रणनीति के तहत राज्यों की राजधानी से पार्टी के केंद्रीय नेता सरकार पर हमलावर होने के साथ पार्टी का पक्ष रखेंगे। इसके अलावा पार्टी विरोध मार्च, नुक्कड़ सभाओं, रैलियों के जरिए सरकार पर हमला बोलने की तैयारी में जुट गई है। जबकि, पार्टी उपाध्यक्ष देश भर में अलग-अलग वर्गों से मिल कर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे। पार्टी शासित मुख्यमंत्री राज्यों के प्रति केंद्र की नीतियों व संघवाद पर मोदी सरकार के रवैए के खिलाफ जनता में माहौल बनाएंगे।

सरकार ने दबाव डाल कराई ललित मोदी पर चर्चा: खडग़े

नई दिल्ली। लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडग़े ने शुक्रवार को दावा किया कि विपक्ष को निशाना बनाने के लिए केंद्र सरकार ने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन पर दबाव डालकर ललित मोदी के मुद्दे पर चर्चा कराई। खडग़े का यह दावा इसलिए हास्यास्पद है कि ललित मोदी पर स्थगन प्रस्ताव खुद उन्होंने ही पेश किया था।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता खडग़े ने राजग सरकार पर आरोप लगाया कि मानसून सत्र में चार हफ्ते के दौरान लगातार मांग के बाद वह मानसून सत्र के अंत में ललित मोदी विवाद पर चर्चा को राजी हुए ताकि विपक्ष को निशाना बनाया जा सके। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सरकार के दबाव में आकर सत्र के अंत में चर्चा कराने का कदम उठाया।

*****

'भाजपा में देश चलाने की इच्छाशक्ति, क्षमता व योग्यता का अभाव है।Ó -गुलाम नबी आजाद, नेता प्रतिपक्ष राज्यसभा

जीएसटी बिल पास न हो, इसलिए कांग्रेस ने ठप की संसद : नड्डा

Posted By: Test1 Test1

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप