तरार खेल (एएनआई)। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के तरार खेल इलाके में स्थानीय लोगों ने पाकिस्तान के खिलाफ जमकर नारे लगाए। स्थानीय महिलाएं और बच्चों ने बड़े पैमाने पर एक विरोध प्रदर्शन आयोजित कर नारे लगाते हुए पीओके से पाकिस्तान से आजादी की मांग कर रहे थे। साथ ही वे पुलिस के द्वारा निर्दोष नागरिकों पर अत्याचार का भी विरोध कर रहे थे। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने इस्लामाबाद पर पिछले 70 सालों से अपने साथ भेदभावपूर्ण की नीति अपनाने के आरोप भी लगाए।

जानकारी के मुताबिक, युनाइटेड कश्मीर पीपुल्स नेशनल पार्टी (यूकेपीएनके) के पूर्व वरिष्ठ उपाध्यक्ष नायला खानीन के अध्यक्षता में तारारखेल में बैठक आयोजित करने के बाद ये रैली निकाली गई। जिसमें बड़ी संख्या में राजनीतिक कार्यकर्ता, सिविल सोसायटी के सदस्य और विद्यार्थी मौजूद थे। इस दौरान नायला ने कहा कि पीओके के नागरिकों के साथ साथ दूसरे दर्जे के नागरिकों सा व्यवहार किया जाता है।

हाल ही के दिनों में ये रिपोर्ट आई थी कि सुरक्षा बलों ने पाकिस्तान का विरोध करने वाले राजनीतिक कार्यकर्ताओं, खासकर युवाओं का अपहरण कर उन्हें काफी प्रताड़ित किया था। जिसके खिलाफ इसी महीने की शुरुआत में यूकेपीएनपी ने कई बैठकें और सम्मेलन आयोजित किये थे। प्रदर्शन में लोगों ने अपने हाथों में बैनर भी थाम रखे थे जिसमें लिखा था, 'तथाकथित आजाद कश्मीर से अपहरण को खत्म करो।' उन्होंने चीन को भी आड़े हाथों लेते हुए अपने कब्जे वाले क्षेत्र से हटने को कहा। पीओके और गिलगिट बाल्टिस्तान से सशक्त कब्जे को खत्म करने की मांग को लेकर पाक विरोधी नारे लगाए गए। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के नियमों का हवाला देते हुए उन्होंने पाकिस्तानी सेना को तत्काल इन इलाकों को छोड़ने को कहा।

गौरतलब है कि, पीओके को आजाद कश्मीर के तौर पर जाना जाता है। यहां प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति भी हैं लेकिन यहां इस्लामाबाद का शासन चलता है। फिलहाल पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खक्कान अब्बासी आजाद जम्मू कश्मीर के अध्यक्ष हैं जो पीओके के सारी मामलों की देखरेख करते हैं।

यह भी पढ़ें : चीन की जाल में फंसा पाकिस्तान, भारत को आक्रामक होने की जरूरत

Posted By: Srishti Verma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप