मुंबई, एएनआइ। महाराष्ट्र के वर्ली में भविष्य के मुख्यमंत्री के रूप में आदित्य ठाकरे के पोस्टर लगे हुए हैं, ज्ञात हो कि वर्ली से ही आदित्य ठाकरे राज्य विधानसभा के लिए चुने गए हैं। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के पुत्र आदित्य ठाकरे मुंबई की वर्ली सीट से चुनाव मैदान में उतरे और अपने प्रतिद्वंद्वी राकांपा प्रत्याशी को उन्होंने 67,672 मतों से पराजित कर एक बड़े अंतर से अपनी विजय भी दर्ज कराई। 

 

ज्ञात हो कि शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के पुत्र आदित्य ने चुनावी राजनीति में उतरने की घोषणा की थी।अब तक ठाकरे परिवार रिमोट कंट्रोल के जरिये शासन करने वाला माना जाता रहा है। हमेशा से ही स्थानीय निकायों से लेकर विधानसभा या लोकसभा चुनावों तक ठाकरे परिवार अपनी पार्टी के शिवसैनिकों को चुनवाकर भेजता रहा है। परन्तु शिवसेना के संस्थापक बाला साहब ठाकरे से लेकर उनके पुत्र उद्धव और भतीजे राज ठाकरे तक कभी भी कोई स्वयं चुनाव मैदान में नहीं उतरा। लेकिन पुत्र आदित्य ठाकरे को चुनाव लड़वाना शिवसेना को भविष्य के लिए तैयार करने की रणनीति माना जा रहा है। ऐसा कयास लगाया जा रहा है कि भाजपा-शिवसेना की गठबंधन सरकार बनने की स्थिति में आदित्य ठाकरे उपमुख्यमंत्री पद के अहम दावेदार हो सकते हैं।

पूरा महाराष्ट्र मेरा कार्यक्षेत्र

29 वर्षीय आदित्य ठाकरे ने रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि यदि शिवसैनिक चाहते हैं कि मैं चुनाव लड़ूं, यदि यहां के लोग चाहते हैं कि मैं चुनाव लड़ूं, यदि हमारी पार्टी के नेता मुझे अनुमति देते हैं तो मैं चुनाव लड़ूंगा। इसके लिए मैं पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे से अनुमति ले चुका हूं। मैं यहां के वर्तमान विधायक शिंदे जी से भी इस बारें में बात कर चुका हूं। अब मैं आप सब लोगों की अनुमति लेने आया हूं, मैं वर्ली का विकास चाहता हूं और महाराष्ट्र को ऊंचाई पर ले जाना चाहता हूं सिर्फ वर्ली ही नहीं मैं पूरे महाराष्ट्र के लिए काम करना चाहता हूं। 

कांग्रेस को क्यों देखना पड़ा हार का मुंह, क्या रही मुख्य वजह; पढ़ें पूरी खबर

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस