मुंबई, राज्य ब्यूरो। Maharashtra Politics: महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि किसी राज्य के राज्यपाल की नियुक्ति के लिए एक प्रक्रिया निर्धारित की जानी चाहिए। शिवसेना उद्धव बालासाहब ठाकरे के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के अनुसार राज्यपाल भारत के राष्ट्रपति का प्रतिनिधि होता है। इसलिए इस पद पर नियुक्ति के लिए एक प्रक्रिया तय की जानी चाहिए।

महापुरुषों का अपमान कर रहे राज्यपाल

उद्धव ने यह बात महाराष्ट्र के राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी पर बोलते हुए कही। उन्होंने कहा कि भगतसिंह कोश्यारी छत्रपति शिवाजी महाराज, महात्मा ज्योतिबा फुले एवं सावित्रीबाई फुले जैसे महाराष्ट्र के महापुरुषों का अपमान करते आ रहे हैं।

महाराष्ट्र का अपमान करने वालों के खिलाफ हों एकजुट

उद्धव ने राज्य के लोगों का और महाराष्ट्र का अपमान करने वालों के विरुद्ध एकजुट होने की अपील की। उन्होंने कहा कि जल्द ही हम एक आंदोलन की घोषणा करेंगे, लेकिन यह महाराष्ट्र बंद हम सिर्फ अपने आप तक सीमित नहीं रखना चाहते।

यह भी पढ़ें: छत्रपति शिवाजी महाराज के अपमान पर चुप रहने वाले भी बराबर के दोषी – उदयन राजे भोसले

एकनाथ शिंदे की आलोचना

इसी कड़ी में उद्धव ठाकरे ने कर्नाटक के साथ सीमा विवाद मुद्दे पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की भी आलोचना की। उन्होंने कहा कि वह कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई के बयानों पर चुप्पी साधे हुए हैं। उद्धव के अनुसार शिंदे और उनके साथी विधायकों को गुवाहाटी यात्रा के दौरान मां कामाख्या से बेलगांव एवं कर्नाटक के अन्य मराठी भाषी क्षेत्रों के महाराष्ट्र में शामिल होने का आशीर्वाद मांगना चाहिए था।

महिला बने मुख्यमंत्री

इससे पहले, उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र में महिला मुख्यमंत्री बनाने की इच्छा जाहिर की थी। ठाकरे ने एक कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि हमें महाराष्ट्र की रक्षा करने के लिए साथ आने की जरूरत है। अब हमें राज्य में मुख्यमंत्री की कुर्सी पर एक महिला को बिठाना चाहिए।

ये भी पढ़ें: 

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की जिंदगी के कई अनछुए पहलुओं को बताती किताब, दिसंबर में होगी लांच

Fact Check: दक्षिण अफ्रीका से नहीं, लंदन के इनर टेंपल से गांधी ने की थी वकालत की पढ़ाई

Edited By: Achyut Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट