राज्य ब्यूरो, मुंबई। छत्रपति शिवाजी महाराज के तेरहवें वंशज एवं भाजपा सांसद उदयन राजे भोसले का कहना है कि छत्रपति शिवाजी के अपमान पर चुप रहनेवाले लोग भी बराबर के दोषी हैं। भोसले ने यह बात छत्रपति शिवाजी महाराज के रायगढ़ किले पर आक्रोश मोर्चा निकालने के दौरान पत्रकारों से बात करते हुए कही। उन्होंने कहा कि यदि शिवाजी महाराज का अपमान करनेवालों पर कार्रवाई न हुई तो वे अपना अगला मोर्चा मुंबई के आजाद मैदान में निकालेंगे।

रायगढ़ किले तक एक आक्रोश मोर्चा निकाला

उदयन राजे भोसले राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज पर दिए गए एक बयान पर नाराज हैं। इसी नाराजगी के फलस्वरूप उन्होंने शनिवार को रायगढ़ किले तक एक आक्रोश मोर्चा निकाला। छत्रपति शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक इसी किले में हुआ था। मोर्चा निकालने के बाद उदयन राजे भोसले ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज के अपमान के विरोध में वह पूरे राज्य का दौरा कर रहे हैं, और शिवाजी महाराज द्वारा दिखाए गए ‘सर्व धर्म समभाव’ का संदेश जन-जन तक पहुंचा रहे हैं।

भगतसिंह कोश्यारी के बयान से नाराज हैं उदयन राजे

उन्होंने आगे कहा कि भगतसिंह कोश्यारी कभी भी कोई बड़े व्यक्तित्व नहीं रहे। राज्यपाल पद की अपनी गरिमा होती है। हम छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। भोसले इससे पहले कह चुके हैं कि मेरा मन करता है कि छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान करनेवालों का गला काट दूं। उदयन राजे भोसले ने राज्यपाल कोश्यारी का समर्थन कर रहे लोगों को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि कुछ लोग राज्यपाल कोश्यारी का समर्थन कर रहे हैं। वे कह रहे हैं कि राज्यपाल के कहने का वह मतलब नहीं था। जो लोग ऐसा कह रहे हैं, उन्हें शर्म आनी चाहिए अपने आप पर। वे छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान करनेवालों के बराबर ही दोषी हैं।

जानें भगतसिंह कोश्यारी ने क्या बयान दिया था 

बता दें कि कुछ दिनों पहले एक समारोह को संबोधित करते हुए कहा था कि, 'हम जब पढ़ते थे...मिडिल में, हाईस्कूल में, तो हमारे टीचर हमसे पूछते थे, विच वर आवर फेवरिट हीरो ? यानी आपका फेवरिट लीडर कौन है ? हम लोग उस समय, जिसको सुभाषचंद्र बोस अच्छे लगे, जिसको जवाहरलाल नेहरू अच्छे लगे, या जिनको गांधी जी अच्छे लगते थे, उन्हें अपना हीरो बताते थे। लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि कोई आपसे पूछे की हू इस योर आइकन, हू इस योर फेवरिट हीरो, तो आपको बाहर जाने की कोई जरूरत नहीं है।

यहीं महाराष्ट्र में आपको मिल जाएंगे। शिवाजी तो पुराने युग की बात हैं, नए युग की बात बोल रहा हूं, यहीं मिल जाएंगे डॉक्टर आंबेडकर से लेकर नितिन गडकरी तक, यहीं मिल जाएंगे आपको आपके आइकन।'  उनके इस बयान के बाद से उनपर छत्रपति शिवाजी महाराज को पुराने समय का आदर्श बताकर उनका अपमान करने का आरोप लग रहा है।

यह भी पढ़ें: सुगम्य भारत अभियान राष्ट्र्रीय पुरस्कार के अंतर्गत महाराष्ट्र के दिव्यांगों का राष्ट्रपति के हाथों सम्मान

Edited By: Piyush Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट