Move to Jagran APP

Maharashtra Politics: लोकसभा के बाद अब विधान परिषद चुनाव में उद्धव की मनमानी, कांग्रेस नाराज; नाना पटोले ने कह दी बड़ी बात

Maharashtra Politics महाराष्ट्र में महाविकास आघाड़ी ने लोकसभा चुनाव में अच्छी सफलता हासिल की है लेकिन ये चुनाव समाप्त होते ही विधान परिषद चुनाव को लेकर मविआ के दलों में खींचतान शुरू हो गई है। उद्धव ठाकरे द्वारा मित्र दलों से पूछे बिना सभी सीटों पर उम्मीदवार खड़े कर देने से कांग्रेस में नाराजगी है। उनके द्वारा की जा रही चालाकी भी कांग्रेस को हजम नहीं हो रही है।

By Jagran News Edited By: Sonu Gupta Published: Tue, 11 Jun 2024 11:45 PM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 11:45 PM (IST)
विधान परिषद चुनाव में उद्धव की मनमानी से कांग्रेस नाराज। फाइल फोटो।

ओमप्रकाश तिवारी, मुंबई। महाराष्ट्र में महाविकास आघाड़ी (मविआ) ने लोकसभा चुनाव में अच्छी सफलता हासिल की है, लेकिन ये चुनाव समाप्त होते ही विधान परिषद चुनाव को लेकर मविआ के दलों में खींचतान शुरू हो गई है। उद्धव ठाकरे द्वारा मित्र दलों से पूछे बिना सभी सीटों पर उम्मीदवार खड़े कर देने से कांग्रेस में नाराजगी है। महाराष्ट्र में दो स्नातक एवं दो शिक्षक क्षेत्र की विधान परिषद सीटों के लिए 26 जून को चुनाव होने जा रहे हैं।

उद्धव ठाकरे ने घोषित किए उम्मीदवार

शिवसेना (यूबीटी) के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे इन चारों सीटों के लिए मविआ में अपने मित्र दलों से सलाह किए बिना ही उम्मीदवार घोषित कर चुके हैं। उनके इस प्रकार उम्मीदवार घोषित किए जाने से नाराज प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा है कि सीटों की घोषणा से पहले मविआ में चर्चा होनी चाहिए थी। कांग्रेस लोकसभा की भांति ही ये चुनाव भी मविआ के रूप में ही लड़ना चाहती है। इसलिए उद्धव ठाकरे को अपने दो उम्मीदवार वापस ले लेने चाहिए।

इस सीट से चुनाव लड़ना चाहती है कांग्रेस

नाना पटोले के अनुसार, जब उद्धव ठाकरे ने अपने चारों उम्मीदवार घोषित किए थे, तब उन्होंने (नाना ने) उद्धव से संपर्क करने की कोशिश की थी। तब वह लंदन में थे। उद्धव ने उस समय पूछा था कि आपके दो उम्मीदवार कौन-कौन हैं ? तब मैंने उन्हें अपने दो उम्मीदवारों के नाम भी बताए थे। कांग्रेस चाहती है कि मुंबई स्नातक क्षेत्र से शिवसेना (यूबीटी) चुनाव लड़े। लेकिन कोकण स्नातक एवं नासिक शिक्षक सीट पर कांग्रेस चुनाव लड़ना चाहती है।

लोकसभा चुनाव में भी उद्धव ठाकरे ने उठाया था यह कदम

मालूम हो कि हाल के लोकसभा चुनाव में भी शिवसेना (यूबीटी) ने सीट बंटवारे का फैसला होने से पहले ही अपने ज्यादातर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी थी। इसके कारण कांग्रेस में स्थिति असहज हो गई थी। उसके बाद ही मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष संजय निरुपम की नाराजगी सामने आई, और उन्हें कांग्रेस से बाहर जाना पड़ा। मुंबई कांग्रेस की वर्तमान अध्यक्ष वर्षा गायकवाड को भी उनकी मनचाही दक्षिण-मध्य मुंबई सीट से टिकट नहीं मिल सका। हालांकि वह उत्तर-मध्य मुंबई की सीट से भी वरिष्ठ अधिवक्ता उज्ज्वल निकम को हराकर संसद में पहुंच चुकी हैं।

इसी प्रकार पश्चिम महाराष्ट्र की सांगली सीट पर भी अंत तक रार मची रही। वहां से शिवसेना (यूबीटी) ने अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया था। जिसके कारण कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे वसंत दादा पाटिल के पौत्र विशाल पाटिल को पार्टी से बगावत करके चुनाव लड़ना पड़ा, और उन्होंने भारी मतों से जीत भी हासिल की।

कांग्रेस को हजम नहीं हो रही उद्धव की चालाकी

बता दें कि अब उद्धव ठाकरे द्वारा की जा रही चालाकी भी कांग्रेस को हजम नहीं हो रही है। उद्धव ठाकरे ने लंदन में रहते हुए नाना पटोले से पूछा था कि नासिक और कोकण से कांग्रेस का उम्मीदवार कौन होगा ? पटोले द्वारा जब संदीप गुलवे का नाम अपने उम्मीदवार के रूप में लिया गया, तो ठाकरे ने गुलवे को शिवसेना (यूबीटी) का टिकट देकर मैदान में उतार दिया। यानी चुनकर आने के बाद गुलवे शिवसेना (यूबीटी) के सदस्य होंगे, ना कि कांग्रेस के।

मविआ में किसके पास है बड़े भाई की भूमिका?

पहले लोकसभा चुनाव और अब विधान परिषद चुनाव में शिवसेना (यूबीटी) द्वारा की जा रही मनमानियां कांग्रेस संगठन में छोटे कार्यकर्ताओं को भी रास नहीं आ रही हैं।

खासतौर से तब, जब लोकसभा चुनाव में कांग्रेस न सिर्फ महाराष्ट्र में 14 सीटों (अब उसके बागी विशाल पाटिल भी उसी के साथ हैं) के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है, बल्कि देश के किसी भी राज्य से कांग्रेस को सर्वाधिक सीटें देनेवाला राज्य महाराष्ट्र बन गया है।

शिवसेना (यूबीटी) 21 सीटों पर लड़कर सिर्फ नौ सीटें जीत सकी है। इस प्रकार मविआ में बड़े भाई की भूमिका अब कांग्रेस के पास है।अक्टूबर में होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अपनी उसी भूमिका के साथ सीटों की मांग रखेगी।

यह भी पढ़ेंः

नौकरी देने के बहाने रूसी सेना में जबरन भर्ती, भारतीयों को रूस भेजने वाले तस्करों के खिलाफ इंटरपोल रेड नोटिस की तैयारी

लोकसभा के बाद अब राज्यसभा में भी बढ़ेगा सत्ता पक्ष का दबदबा, उच्च सदन में इतनी हो जाएगी भाजपा की संख्या?


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.