नई दिल्ली। भाजपा ने बृहस्पतिवार को स्पष्ट किया कि अगर वह अपने दम पर बहुमत हासिल नहीं कर पाती है तो इस स्थिति में भी पार्टी अपने पीएम प्रत्याशी को नहीं बदलेगी। पार्टी ने उन दावों को बेबुनियाद बताया जिसमें कहा जा रहा था कि कम सीटें मिलने पर पार्टी अपने प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार को बदल सकती है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता एम वेंकैया नायडू ने कहा, 'देशभर में पार्टी का चुनाव प्रचार अभियान व्यवस्थित तरीके से जारी है। मोदी को सर्वसम्मति से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया गया था। मैं नहीं समझता कि इस पर दोबारा विचार की जरूरत है।' नायडू ने उन चर्चाओं को भी खारिज कर दिया कि केंद्र में भाजपा की सरकार बनने पर पार्टी के कुछ नेता मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने को लेकर आशंकित हैं। उन्होंने वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी की एक दिन पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत से मुलाकात को ज्यादा तवज्जो न देते हुए कहा कि पार्टी के तमाम नेता संघ नेताओं से मुलाकात करते हैं और पार्टी के भीतर किसी स्तर पर निराशा नहीं है।

पढ़े: काशी में चहुंओर मोदी

ममता ने मोदी को मूर्ख, गधा बताया

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस