राज्य ब्यूरो, रांची। नेतरहाट में स्थानीयता नीति पर बनी उच्चस्तरीय कमेटी की बुधवार को हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया कि यह टीम छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश समेत अन्य राज्यों की नियोजन नीति का अध्ययन करेगी। बैठक में कई सुझाव भा आए। सदस्यों की राय थी कि फिलहाल नियुक्ति का क्रियान्वयन रोका जाए। इन सुझावों पर 16 फरवरी को अगली बैठक में चर्चा होगी। खास यह कि उच्चस्तरीय कमेटी में राम कुमार पाहन को भी जोड़ लिया गया है।

बैठक की अध्यक्षता मंत्री अमर कुमार बाउरी ने की। बैठक में राधा कृष्ण किशोर, सत्येंद्र नाथ तिवारी, राज सिन्हा, अमित मंडल और प्रधान सचिव निधि खरे मौजूद थीं। बैठक में मुख्यमंत्री, मंत्री सहित 47 लोग अपेक्षित थे लेकिन कुल 25 लोग ही शामिल हुए। इनमें विधायकों की संख्या 17 है। हालांकि बैठक के बाद देर शाम विधायक शिवशंकर उरांव भी पहुंच गए। जो विधायक आज की बैठक में नहीं पहुंचे उनके बारे में समझा जा रहा है कि वे विरोध के स्वर को और तेज करेंगे। अभी मंत्री सरयू राय असंतुष्ट विधायकों को लीड कर रहे हैं।

महामंत्री परख रहे असंतोष का स्तर

भाजपा प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह यहां डटे हैं और तेजी से बदलते घटनाक्रम पर पूरी निगरानी रख रहे हैं। केंद्र ने उन्हें इसकी जिम्मेदारी सौंपी है। वे परख रहे हैं कि असंतोष का स्तर क्या है।

नेतरहाट को अंतरराष्ट्रीय स्तर की पहचान दिलाएंगे : सीएम

मुख्यमंत्री रघुवर दास बुधवार शाम आदिम जनजातियों की बस्ती भी पहुंचे। यहां सीएम ने लोगों से कहा कि नेतरहाट को अंतरराष्ट्रीय स्तर की पहचान दिलाएंगे। उनके साथ मंत्री अमर कुमार बाउरी, राज सिन्हा, अमित मंडल, हरे कृष्ण सिंह, राधा कृष्ण किशोर, मंत्री रणधीर सिंह मौजूद थे।

महिलाओं को सीएम ने दिया प्रशस्ति पत्र

मुख्यमंत्री रघुवर दास बुधवार शाम सूर्यास्त देखने मैग्नोलिया प्वाइंट पहुंचे, बादल के कारण इसका पूर्णतया लुत्फ नहीं उठा सके। इस दौरान उन्होंने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन से जुड़ी ग्रामीण महिलाओं द्वारा लगाए गए कृषि व हस्तशिल्प के स्टॉल का निरीक्षण किया। उन्होंने महिलाओं को प्रशस्ति पत्र भी दिया। इस दौरान सीएम ने मांदर भी बजाया।

यह भी पढ़ेंः झारखंड में विरोध करने वाले विधायकों की तल्खी अब भी बरकरार

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस