शिमला, जेएनएन। देश के सबसे चर्चित अयोध्या विवाद पर शनिवार को प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबडे, डीवाई चंद्रचूड़, अशोक भूषण और एस अब्दुल नजीर की संविधान पीठ ने फैसला सुनाते हुए शिया वक्फ बोर्ड की याचिका खारिज कर दी है, न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा कि बाबरी मस्जिद मीर बाकी द्वारा बनाई गई थी। 

किसी भी अप्रिय घटना की आशंका को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गये हैं, कुल्लू में  हालात सामान्य हैं, पुलिस को सतर्क रहने के आदेश जारी किए गये हैं। पुलिस शहर में गश्त पर हैं, मंदिर और मस्जिदों के आगे चौकसी बढ़ा दी गयी है। जिला कांगड़ा में हालात पूरी तरह से सामान्य है, पुलिस ने पूरे जिला में अलर्ट जारी किया हुआ है, जगह-जगह पुलिस तैनात कर दी गयी है।

ऊना जिले में सभी प्रमुख कस्बों में पुलिस की खुफिया एजेंसियों के सदस्य नजर रख रहे हैं। पुलिस व प्रशासन ने जिले में चौकसी बढ़ा दी है , प्रमुख शिक्षण संस्थानों व मंदिर मस्जिदों के आस-पास पुलिस बल तैनात है ।

मंदिर निर्माण के लिए 51 लाख का आर्थिक सहयोग 

श्रीराम लोक मंदिर सोलन के संस्थापक बाबा अमरदेव ने अयोध्‍या में राम मंदिर निर्माण के लिए 51 लाख रुपये का आर्थिक सहयोग देने की बात कही। उन्होंने कहा कि पिछले कई वर्षों से यहां होने वाले प्रत्येक हवन यज्ञ में वह अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर के लिए भगवान से अरदास करते रहे हैं और अब उनका यह सपना पूरा हो रहा है। गौर हो कि रामलोक मंदिर सोलन के साधुपुल के निकट रूडा में स्थित है और यहां राम परिवार की अष्ट धातु से बनी विश्व की सबसे ऊंची मूर्तियां स्थापित हैं।

Ayodhya Case Verdict 2019 LIVE Update: राजस्‍थान में धारा 144 लागू, स्‍कूल-कॉलेज बंद

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस