शिमला, राज्य ब्यूरो। हिमाचल सरकार किडनी ट्रांसप्लांट नि:शुल्क करवाएगी। इस संबंध में राज्य सरकार ने स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र लिखा है। इसमें इसे आयुष्मान भारत योजना के पैकेज में शामिल करने का आग्रह किया है। अगर यह इस योजना में शामिल हो गया तो फिर प्रदेश में हिमकेयर में भी स्वत: ही शुमार हो जाएगा। स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने इस बारे में विधानसभा में आश्वासन दिया था। हिमाचल प्रदेश में एम्स के डॉक्टरों की मदद से किडनी ट्रांसप्लांट के दो सफल ऑपरेशन हुए हैं। अब 10 और ऐसे ऑपरेशन होंगे। इस ऑपरेशन और इलाज में साढ़े तीन लाख से सात लाख का खर्च आता है। मरीज को ऑपरेशन के बाद भी दवाएं निरंतर खानी पड़ती है। दो मरीजों के इलाज का पूरा खर्च राज्य सरकार ने वहन किया।

मुख्यमंत्री सहायता कोष से पैसे दिए गए। प्रदेश में ऐसे गंभीर रोग के मरीजों की तादाद 574 हैं। इनकी सरकार ने पहचान कर ली है। लेकिन ऑपरेशन से पहले की औपचारिकताएं काफी ज्यादा रहती है। जैसे-जैसे वो पूरी होंगी, दूसरे रोगियों के भी आइजीएमसी में ही ऑपरेशन होंगे। 

हिमकेयर में भी होगी सुविधा

हिमकेयर में बीमा करवाने वालों का 1800 प्रकार की बीमारियों में मुफ्त उपचार का प्रावधान है। नए कार्ड 1 जनवरी से 31 मार्च 2020 तक बनाए जाएंगे। यह योजना जनवरी से आरंभ हुई और अभी तक 6 लाख 42 हजार 709 परिवारों का पंजीकरण किया गया है। इसमें से 574320 ई-कार्ड अभी तक जारी किए गए हैं। बचे हुए 68389 परिवारों को ई-कार्ड जारी किए जा रहे हैं। इस योजना में डे केयर में 67 बीमारियों के उपचार का भी प्रावधान है। अभी तक 32143 लाभार्थियों को 33.55 करोड़ रुपये के नि:शुल्क इलाजकी सुविधा प्रदान की गई है। अब इसमें किडनी ट्रांसप्लांट को भी शामिल करने कसरत शुरू हो गई है।

शिमला में अब बेहतर होगी यातायात सेवा, चलेंगी नई इलेक्ट्रिक बसें; जानें क्‍या है इन बसों की खास बात

रोहतांग सुरंग के लिए अभी करना पड़ सकता है लंबा इंतजार, जानें क्या है वजह

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप