Move to Jagran APP

Chamba News: चार दिन बाद बहाल हुआ किलाड़-केलंग मार्ग, लोगों को मिली राहत

Chamba News किलाड़ वाया लाहौल से होते हुए कुल्लू के लिए जाने वाला मार्ग बुधवार को फिर से खोल दिया गया। करीब चार दिन पूर्व हिमस्खलन होने के कारण तिंदी में मार्ग बंद हो गया था। मार्ग बंद होने से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था।

By Jagran NewsEdited By: Swati SinghPublished: Thu, 23 Mar 2023 07:56 AM (IST)Updated: Thu, 23 Mar 2023 07:56 AM (IST)
हिमस्खलन होने के कारण तिंदी के समीप बंद हो गया था मार्ग

पांगी, जागरण संवाददाता। किलाड़ वाया लाहौल से होते हुए कुल्लू के लिए जाने वाला मार्ग आखिरकार चार दिन बाद बहाल कर दिया गया है। मार्ग के बहाल होते ही वाहनों की आवाजाही सुचारू हो गई है। जिससे लोगों ने राहत की सांस ली है। बुधवार को कुल्लू व केलंग की ओर किलाड़ में वाहन पहुंचे।

वहीं, किलाड़ की ओर से भी केलंग तथा कुल्लू के लिए वाहन निकले। हालांकि, उक्त मार्ग पर हिमस्खलन का खतरा रहता है। ऐसे में प्रशासन ने वाहन चालकों व सवारियों से अपील की है कि सचेत होकर वाहन चलाएं। गौरतलब है कि करीब चार दिन पूर्व हिमस्खलन होने के कारण तिंदी में मार्ग बंद हो गया था। जिस कारण पांगी से पांगी घाटी से केलंग व कुल्लू व कुल्लू व केलेंग से पांगी घाटी के लिए आने वाले वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से बाधित हो गई थी।

मार्ग बहाल, लोगों को मिली राहत

पांगी घाटी के लोग अक्सर उक्त मार्ग से केलंग व कुल्लू के बीच सफर करते हैं। पांगी मुख्यालय किलाड़ स्थित सिविल अस्पताल से रेफर होने वाले मरीजों को भी इसी मार्ग से होते हुए कुल्लू व मंडी के अलावा टांडा व शिमला पहुंचाया जाता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि उक्त मार्ग से होते हुए पांगी घाटी में विभिन्न प्रकार की सामग्री भी पहुंचाई जाती है। बहरहाल, मार्ग बहाल होने के बाद स्थानीय लोगों ने राहत की सांस ली है।

मौसम खराब होने का है पूर्वानुमान

लोगों का कहना है कि मौसम विभाग की ओर से आगामी दिनों में भी मौसम के खराब रहने का पूर्वानुमान लगाया गया है। यदि मौसम फिर से अपने तेवर कड़े करता है तो दिक्कतें बढ़ सकती हैं।

अलर्ट भी है जारी

पांगी के आवासीय आयुक्त अजय कुमार यादव ने कहा कि तिंदी के समीप हिमखंड गिरने के कारण मार्ग बंद हो गया था, जिसे अब बहाल कर दिया गया है। वाहन चालकों से आग्रह है कि सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सफर करें, ताकि किसी तरह की अनहोनी न हो सके।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.