बिलासपुर, जागरण संवाददाता। Road Safety With Jagran, हिमाचल प्रदेश की सड़कों पर दुर्घटनाओं व ट्रैफिक नियमों के पालन में पुलिस बल के साथ-साथ अब आइटीएमएस कैमरे भी अहम भूमिका अदा कर रहे हैं। इन कैमरों की मदद से जिला में दुर्घटनाओं पर नियंत्रण करने में कामयाबी मिल रही है। नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों पर इन कैमरों की मदद से लगाम लगाई जा रही है। साथ ही इससे अब वाहन चालक भी ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूक हो रहे हैं। इसी से संबंधित बातचीत करते हुए एएसपी बिलासपुर राजिंद्र कुमार जसवाल के साथ बातचीत के कुछ अंश : -

जिला में सड़क सुरक्षा को लेकर क्या इंतजाम हैं?

बिलासपुर में दो स्थानों पर आइटीएमएस यानी इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम कैमरों को लगाया गया है। इनकी मदद से जहां नियमों की अनुपालना में मदद मिल रही है, वहीं सड़क दुर्घटनाओं में भी कमी नजर आ रही है। लोग नियमों का पालन कर रहे हैं और उलंघन करने पर चालान किए जा रहे हैं।

ट्रैफिक नियमों के प्रति कैसे चालकों को जागरूक कर रहे हैं?

पुलिस टीम के सदस्य समय समय पर सामाजिक संस्थाओं के साथ मिलकर शिक्षण संस्थानों, ट्रांसपोर्टरों व अन्य वाहन चालकों को जागरूक करने का कार्य करती है और ट्रैफिक नियमों की जानकारी उन्हें प्रदान की जाती है।

दुर्घटनाओं पर अंकुश लगे, इसके लिए किस तरह से कार्य होगा?

हमारी कोशिश होगी कि दुर्घटनाओं के बाद पुलिस उस स्थान के सुधार के लिए उचित कार्य कर सके। जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में उन बिंदुओं को प्रमुखता से उठाने का प्रयास होगा, जो अधिकतर हादसों का कारण बनते हैं। लोनिवि की मदद से उन स्थानों को दुरूस्त करवाने का कार्य किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: Road Safety With Jagran: चंबा की सड़कों पर आखिर क्‍यों होते हैं इतने हादसे, RTO ओंकार सिंह ने बताई वजह

दुर्घटना के बाद क्या घटनास्थल पर किसी तरह का सुधार होता है?

पुलिस उन स्थानों को ब्लैक स्पॉट घोषित करती है जहां अत्याधिक दुर्घटनाएं घटित होती है। जिला बिलासपुर का अधिकतर दुर्घटनाओं से ग्रसित क्षेत्र अब जल्द ही समस्या से मुक्त होगा। स्वारघाट से बिलासपुर के लिए जल्द फोरलेन बन रहा है, जिससे जिला में दुर्घटनाओं में कमी आएगी।

जिला में कई ऐसे स्थान हैं जहां हादसों के बाद भी सुधार नहीं है?

पुलिस की कोशिश होगी कि ऐसे स्थानों को चिह्नित किया जाए। उन स्थानों पर चेतावनी बोर्ड लगाए जाएंगे और सड़क में आवश्यक बदलाव के लिए भी जिला स्तरीय बैठक में सुझाव दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: Himachal Pradesh: पत्‍नी की मौत के 5 मिनट बाद पति ने भी त्‍याग दिए प्राण, बेटा-बेटी को बुला लिया था घर

Edited By: Rajesh Kumar Sharma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट