रोहतक [ओपी वशिष्ठ]। नया बस स्टैंड स्थित हुडा सिटी पार्क, आपातकाल की कड़वी यादों का मूक गवाह है। शहर के इस चहेते पार्क की जगह कभी डिस्टिक्ट जेल हुआ करती थी। आपातकाल लगते ही बड़े नेताओं को जेलों में ठूंसा जाने लगा। पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर, पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, पूर्व उप राष्ट्रपति भैरोंं सिंह शेखावत, पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडीज, ताऊ देवीलाल, बीजू पटनायक सरीखे नेताओं को दिल्ली से लाकर यहां की जेल में कैद किया गया था।

भले ही आज यहां संगीतमयी फव्वारों और आम के पेड़ों की छाया के बीच लोग सैर-सपाटे के लिए आते हैं, लेकिन एक जमाना ऐसा भी था जब इन्हीं पेड़ों के नीचे लोकतंत्र के तराने गाए जाते थे। दिग्गज नेता सत्ता के दमन के खिलाफ यहां रणनीति बनाते थे। वर्ष 2013 में पुरानी जेल को तोड़कर सुनारिया स्थित नए परिसर में शिफ्ट कर दिया गया। लेकिन, पुरानी जेल में लगे पेड़ों को नहीं काटा गया। जेल की काल कोठरी तो नहीं रही, लेकिन आम के पेड़ आज भी लोकतंत्र समर्थकों के संघर्ष के किस्सों को बयां करते हैं।

आडवाणी डिप्टी पीएम बनने के बाद रोहतक जेल देखने पहुंचे थे

आपातकाल के नायकों में शुमार वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी 18 जुलाई 1975 से 22 जुलाई 1975 तक रोहतक जेल में बंद रहे थे। उन्हें ए-क्लास श्रेणी में रखा गया था। अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में आडवाणी जब उपप्रधानमंत्री बने तो उन्होंने रोहतक जेल की उस बैरक को देखने की इच्छा जताई, जहां उन्हें आपातकाल के दौरान रखा गया था। 27 जून 2003 को वह रोहतक जेल पहुंचे थे। करीब 30 मिनट तक वहां ठहरे। तत्कालीन जेल अधीक्षक के साथ आपातकाल के अनुभवों को भी साझा किया।

आसपास के इलाके में आबादी बढ़ने पर शिफ्ट की गई जेल

रोहतक के नए बस स्टैंड स्थित पुरानी जेल के आसपास समय के साथ आबादी बढ़ने से सुरक्षा कमजोर पड़ने लगी थी। जेल की चाहरदीवारी से भी ऊंची आसपास इमारतें बन गई थीं। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की सरकार के दौरान यहां से जेल को सुनारिया गांव में शिफ्ट किया गया। पुरानी जेल की जगह पर सिटी पार्क बना दिया गया है। सैर-सपाटे के लिए शहरवासियों का पसंदीदा स्पॉट यह पार्क बन चुका है।

यह भी पढ़ें: प्रेमी को रोज रात में फोन कर बुलाती थी प्रेमिका, घरवालों ने देखा तो पीट-पीट कर मार डाला 

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान सीमा पर सटे सिब्बल सकौल से संपर्क कटा, PWD ने हटाया अस्थाई पुल

यह भी पढ़ें: पुलिस के सामने भीड़ ने तोड़ा मोर्चरी का ताला, उठा ले गई युवक का शव, संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी मौत

यह भी पढ़ें: Marriage in lockdown: शादियों में 50 लोगों के शामिल होने की गाइडलाइन को हाई कोर्ट में चुनौती

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस