जागरण संवाददाता, जींद : एकलव्य स्टेडियम में गणतंत्र दिवस समारोह में रिहर्सल करने के बाद विद्यार्थियों को लेकर जा रही निजी स्कूल की बस पर युवकों ने पथराव कर शीशा तोड़ दिया। इसमें बस में सवार तीन छात्रों के सिर में चोट आई। बस का शीशा तोड़ते ही युवक वहां से फरार हो गए, लेकिन वहां पर मौजूद लोगों ने पीछा करके एक युवक को पकड़ लिया। पकड़ा गया युवक सीनियर सैकेंडरी स्कूल जींद का छात्र है और वह कैथल रोड पर रहता है।

Haryana News: राम रहीम ने तलवार से काटा केक, चलाया सफाई अभियान; हजारों डेरा सेवादारों ने किया शहर साफ

बस के शीशे तोड़ने का पता चलते ही प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के पदाधिकारी सिविल लाइन थाने में पहुंचे और घटना पर रोष जताते हुए कहा कि गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारियों को लेकर चल रही रिहर्सल के दौरान कोई भी सुरक्षा व्यवस्था नहीं है। जहां पर बाहरी युवकों का जमावड़ा लगा रहता है, इसके कारण रिहर्सल करने आने वाली छात्राओं को परेशानी होती है। अगर वहां पर तैनात अध्यापक विरोध करते हैं तो युवक हमला करने पर उतारू हो जाते हैं।

सोमवार को भी पटियाला चौक स्थित एक स्कूल की बस बच्चों को लेकर रिहर्सल करवाने के लिए एकलव्य स्टेडियम में लेकर गई थी। जब दोपहर बाद रिहर्सल करवाने के बाद विद्यार्थियों को स्टेडियम से बाहर लेकर आ रहे थे तो मुख्य गेट पर आधा दर्जन युवक खड़े हुए थे। जब अध्यापक कुलदीप ने उनको वहां से हटने के लिए कहा तो युवक तैश में आए गए और ऊंची आवाज में बोलने लगे। वहां पर तैनात दूसरे अध्यापकों ने वहां से उनको हटा दिया।

जब बस में 45 विद्यार्थियों को बैठाकर सफीदों रोड की तरफ निकली तो इसी दौरान उन युवकों ने ईंट उठाकर बस के पीछे के शीशे पर मार दिया। ईंट शीशे को तोड़ते हुए एक छात्र के सिर में लग गई, जबकि दो छात्रों को शीशा लगने से सिर में चोट आई। हमला होते ही बच्चे चिल्लाने लगे तो स्टेडियम से दूसरे स्कूलों के अध्यापक भी वहां पर आ गए।

लोगों ने पुलिस के हवाले किया युवक 

युवक वहां से फरार हो गए, लेकिन कुछ लोगों ने गाड़ी के माध्यम से उनका पीछा करके परशुराम चौक के पास ईंट मारने वाले युवक को पकड़ लिया और नाके पर तैनात पुलिस कर्मियों के हवाले कर दिया। घायल छात्रों का बाईपास पर ही निजी अस्पताल में प्राथमिक उपचार देकर उनको घर भेज दिया। बाद में युवक को सिविल लाइन थाने में हिरासत में ले लिया।

Haryana: सच हो रहा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का सपना, दादा ने पोती को घोड़ी पर बैठाकर निकाला बनवारा

Edited By: Himani Sharma

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट