गुरुग्राम (आदित्य राज)। गाजियाबाद की वसुंधरा काॅलोनी निवासी इंजीनियर नेत्रपाल सिंह की हत्या मामले के मुख्य आरोपित को क्राइम ब्रांच मानेसर की टीम ने शनिवार शाम झज्जर जिले के गांव डीघल से गिरफ्तार कर लिया। उसकी पहचान गुरुग्राम जिले के गांव कांकरौला निवासी 26 वर्षीय रोहित उर्फ मोनू के रूप में की गई। वह वर्तमान में गढ़ी हरसरू में रह रहा था।

उसे रविवार दोपहर इलाके ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने पेश कर पूछताछ के लिए दो दिन की रिमांड पर लिया गया है। प्रारंभिक पूछताछ के मुताबिक इंजीनियर नेत्रपाल सिंह की कार आरोपित की स्कूटी से टच कर दी गई। इस पर आराेपित ने कार के आगे अपनी स्कूटी अड़ा दी थी। इसे लेकर दोनों के बीच झगड़ा हो गया था। इसी बीच आरोपित ने फोन करके अपने साथियों को बुला लिया था। फिर सभी ने मिलकर इंजीनियर के ऊपर लाठी, डंडों से हमला कर दिया था।

इसी महीने 11 अक्टूबर को नेत्रपाल सिंह अपने दोस्तों के साथ कार से गुरुग्राम पहुंचे थे। खेड़कीदौला टोल प्लाजा के नजदीक दिल्ली-जयपुर हाईवे पर एक स्कूटी चालक से उनका विवाद हो गया था। उसी दौरान स्कूटी चालक ने अपने साथियों को बुला लिया था। इसके बाद सभी ने मिलकर इंजीनियर के ऊपर हमला किया था। एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी।

मामले के सभी आरोपितों को पकड़ने की जिम्मेदारी क्राइम ब्रांच मानेसर की टीम को सौंपी गई है। टीम के प्रभारी अमित कुमार को सूचना मिली कि मुख्य आरोपित झज्जर इलाके में छिपा हुआ है। इसके बाद टीम इलाके में पहुंची और उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

सहायक पुलिस आयुक्त (क्राइम) प्रीतपाल का कहना है कि जल्द ही अन्य आरोपितों को गिरफ्तार किया जाएगा। साथ ही वारदात में इस्तेमाल स्कूटी व अन्य वाहनों के साथ ही हथियार बरामद किए जाएंगे।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस