गुरुग्राम, जागरण संवाददाता। वायु प्रदूषण का स्तर ज्यादा है और अब सर्दी अपना असर दिखाने लगी है। सुबह-शाम हल्की सर्दी होने लगी है और इसे हेल्दी सीजन माना जाता है, लेकिन सर्दी कुछ लोगों के लिए परेशानी का सबब भी बन जाती है। इस मौसम में बुजुर्ग, शिशु और दमा के रोगियों को अच्छी-खासी परेशानी हो सकती है। ।

वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. काजल कुमुद का कहना है कि बुजुर्ग, दमा रोगी व बच्चों के लिए कुछ सावधानी बरतना जरूरी है।

नवजात का ऐसे बचाव करें

-बच्चे को ऐसे मौसम में घर से बाहर निकालने से बचें

-बच्चे के साथ घर के बाहर निकलने पर कपड़े से ढककर रखें

-हो सके तो बच्चे को गाड़ी में लेकर जाएं

-ऐसे मौसम में बच्चे को टू- व्हीलर पर लेकर जाने से बचें

-सुबह के समय बच्चे को खुले में लेकर न जाएं

-जब तक बच्चा मां का दूध पीता है, तब तक मां को खाने का ध्यान रखना होगा, क्योंकि ज्यादा ठंडा खाने से -बच्चा बीमार हो सकता है

-धूप निकलने के बाद बच्चे को हर रोज गर्म पानी से स्नान जरूर कराएं

हड्डी रोगी ऐसे करें खुद का बचाव

-ज्यादा गर्म कपड़े पहनकर रहें

-डॉक्टर को दिखाए बिना स्वयं कोई दवा न लें

-ज्यादा सर्दी होने के बाद भी अंदर कमरे में ही शरीर के उस हिस्से की एक्सरसाइज करते रहे, जिससे हड्डी जाम होने की स्थित न हो।

-ऐसी कोई भी सामग्री खाने से बचे, जो शरीर में गर्मी को खत्म करें।

-धूप निकलने के बाद योगा या एक्सरसाइज करनी जरुरी है।

-गर्म पानी या गर्म चीज से शरीर के उस हिस्से को गर्माहट दें

-अगर ज्यादा बुजुर्ग हैं तो धूप निकलने के बाद घूमना जरूर चाहिए, इससे शरीर में अकड़ने की स्थिति नहीं होगी।

सांस की समस्या वाले मरीज ऐसा ना करें

-सर्दी में सुबह के समय प्रदूषण की जगह जाने से बचें

-सैर पर न जाएं

-अपनी दवा साथ रखें ताकि जरूरत पड़ने इस्तेमाल हो सके

-अगर परेशानी महसूस हो तो डॅाक्टर को तुरंत दिखाएं

-अपने मुंह पर मास्क या कपड़ा बांधकर रखें

  Ayodhya Verdict: अफवाह फैलाने के आरोप में यूपी नव निर्माण सेना अध्यक्ष समेत दो गिरफ्तार

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

 

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप