फरीदाबाद [अनिल बेताब]। Sanitation Survey 2021: स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में अव्वल आने की तैयारी के चलते फरीदाबाद नगर निगम इंदौर के फॉर्मूले पर काम कर रहा है। इंदौर के सलाहकारों के सुझाव पर फरीदाबाद नगर निगम के सुपरवाइजर अलग-अलग वार्डों में जाकर एक तरफ जहां स्वच्छता मित्रों (सफाई कर्मचारी) को प्रोत्साहित कर रहे हैं, वहीं सामाजिक संगठनों और पार्षदों को भी स्वच्छ भारत मिशन से जोड़ा जा रहा है। नागरिकों को संदेश दिया जा रहा है कि अपने घर से गीला व सूखा कचरा अलग-अलग करके इकोग्रीन के कर्मचारियों को दें। इसके अलावा नगर निगम ने खत्तों की संख्या कम कर दी है, जिससे शहर में कम से कम कचरा दिखाई दे।

बता दें कि पिछले दिनों इंदौर नगर निगम के सलाहकार महेंद्र चिल्हाटे और आदित्य शर्मा को यहां आमंत्रित किया गया था। इन्होंने यहां अलग-अलग वार्डों में जाकर काम किया था। बाद में इंदौर नगर निगम की टीम ने महापौर सुमन बाला को कुछ सुझाव भी दिए। इंदौर में कोई भी खत्ता नहीं है, जहां कचरा फैला दिखाई दे। फील्ड से एकत्र किया गया कचरा सीधा डंपिग साइट पर ले जाते हैं, वहीं कचरे का निस्तारण किया जाता है।

डॉ. यश गर्ग (फरीदाबाद नगर निगम के आयुक्त) के मुताबिक, हमने प्रमुख बाजारों में कूड़ेदान रखवाने शुरू कर दिए हैं। वार्ड नंबर 7, 12, 27, 30 और 35 को आदर्श बनाया जा रहा है स्वच्छता के मामले में नागरिकों का सहयोग मिलेगा, तो निश्वित ही बेहतर नतीजे मिल पाएंगे। इंदौर नगर निगम के कार्याें से प्रेरणा लेकर हम यहां काम कर रहे हैं। इंदौर लगातार चार वर्ष स्वच्छता सर्वेक्षण में अव्वल रहा है। पार्षदों और आरडब्ल्यूए के सहयोग से हम काम कर रहे हैं।

गौरतलब है कि फरीदाबाद के 40 वार्डों से रोजाना एकत्र किया जा रहा करीब 800 टन कचरा फिलहाल बंधवाड़ी प्लांट तक पहुंचा जा रहा है। नगर निगम की ओर से सेक्टर-74 में कचरा घर साइट बनाना शुरू किया गया था, लेकिन नागरिकों के विरोध के चलते यह काम रुक गया है। निगम का उद्देश्य था कि यहां का कचरा यहीं की साइट पर ही पहुंचाया जाए। निगम अभी इस मामले में सफल नहीं हुआ है। फिर भी निगम ने अपनी टीमाें को अलग-अलग वार्डों में जागरूकता अभियान को गति देने को लगा दिया है। इकोग्रीन के कर्मचारी भी घर-घर जाकर नागरिकों को समझा रहे हैं। बागवानी शाखा ने भी 50 से अधिक खत्तों को बंद करके वहीं आसपास पौधे लगाने शुरू कर दिए हैं। बता दें कि दिसंबर 2017 में जब इकोग्रीन कंपनी ने शहर में घर-घर से कचरा एकत्र करना शुरू किया था, तो उस समय 600 से अधिक खत्ते थे। बाद में इकोग्रीन ने 300 खत्तों को कम कर दिया था।

40 से अधिक कार्यक्रम किए

नगर निगम की टीम के साथ मिलकर इंदौर नगर निगम की टीम ने शहर में 40 से अधिक जागरूकता कार्यक्रम किए हैं। इन कार्यक्रमों में स्टील के बर्तनों के प्रयोग पर जोर दिया गया है। नागरिकों को जागरूक किया गया कि वे प्लास्टिक व थर्माेकोल के बर्तनों का इस्तेमाल न करें। पर्यवरण संरक्षण के लिए यह बहुत जरूरी है। निगमायुक्त डॉ. यश गर्ग ने कई जगह पौधारोपण किया और नागरिकों को पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक किया।

 

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021