अनुप्रिया वर्मा, मुंबई। स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने भारत रत्न और भारत के 10 वें प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपयी के निधन पर शोक जताते हुए ट्विट्टर पर लिखा है कि ऋषितुल्य पूर्व प्रधान मंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी के स्वर्गवास की वार्ता सुनके मुझे ऐसा लगा जैसे मेरे सर पर पहाड़ टूटा है, क्योंकि मैं उनको पिता समान मानती थीं और वो मुझे अपनी बेटी मानते थे। 

मुझे वो इतने प्रिय थे कि मैं उनको दद्दा कह कर बुलाती थी। आज मुझे वैसा दुःख हुआ जैसे मेरे पिताजी के स्वर्गवास के समय हुआ था। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे। बता दें कि लता और अटल का रिश्ता बेहद खास था। अटल ने ही भारत रत्न के लिए लता का नाम शामिल किया था। वह खुद गजल के काफी शौक़ीन भी थे। साथ ही संगीत से भी उनका गहरा लगाव था। ऐसी खबरें आती रही हैं कि रामलीला मैदान में किसी समारोह में बैठे थे तो भूपेन हजारिका के पास एक पर्ची भिजवाई और अपना फिल्म गीत मोई एती ज्ज्बोर गाने की फरमाइश की।बाद में जब भूपेन नीचे आये तो उन्होंने कहा कि इस गीत को सुनने के लिए मैं कब से बेक़रार था। वह विलायत खान के भी प्रशंसक थे तो दूसरी तरफ उमराव जान के गाने उन्हें खूब पसंद थे। लता के गाये गीत खूब सुनते थे। लता और अटल से जुड़ा यह प्रसंग भी मिलता है कि लता जी ने अटल जी को एक बार कहा था कि अटल जी के नाम को उल्टा करदो तो मेरा नाम आ जायेगा और यह सुन कर अटल जी खूब हंसे थे।

यह भी पढ़ें: श्रद्धा कम पहनती हैं साड़ी, लेकिन चंदेरी में साड़ी खरीदने से खुदको नहीं रोक पाई

बता दें कि खबरें हैं कि वह अपने अंतिम दिनों में पुराने क्लासिकल गानें और खासतौर से लता के ही गाने सुन रहे थे। 

यह भी पढ़ें: क्या खोया क्या पाया जग में, ऐसा था अटल जी का शाहरुख़-बच्चन कनेक्शन

 

Posted By: Rahul soni