रूपेशकुमार गुप्ता, मुंबईl मशहूर फिल्म अभिनेता धर्मेंद्र ने मुंबई में जागरण डॉट कॉम के साथ हुई विशेष बातचीत में कहा था कि फिल्म फूल और पत्थर की शूटिंग के दौरान फिल्म के निर्देशक ओ पी रल्हन द्वारा कठोर शब्दों का प्रयोग किए जाने के कारण उनके आत्म सम्मान को इतनी ठेस लगी थी कि उन्होंने उस फिल्म को तीन दिन तक शूट की थी लेकिन इसके बावजूद वह फिल्म की शूटिंग छोड़कर जाने लगे थेl

धर्मेंद्र ने आगे कहा कि ओ पी रल्हन किसी को भी सम्मान नहीं देते थे और न ही सम्मानपूर्वक भाषा में बात करते थेl जिसके बाद उन्होंने ओ पी रल्हन से कहा भी कि अगर उनके स्वाभिमान को जरा भी ठेस पहुंची, तो वह इस फिल्म को सदा के लिए छोड़ देंगेl उन्होंने घर आकर अपनी मां से यह कहा भी कि चलो पंजाब वापस चलते हैं, अब यहां नहीं रहना चाहिएl उसके बाद फिल्म निर्देशक ओ पी रल्हन सामान्य हुए और मेरी बातों के कारण उन्हें झुकना पड़ाl अन्यथा वह सदा उलटी भाषा का प्रयोग कर बात किया करते थेl

फिल्म फूल और कांटे धर्मेंद्र के लिए मील का पत्थर साबित हुई थी और उसके बाद उन्होंने कभी भी फिल्म इंडस्ट्री में मुड़ कर पीछे नहीं देखाl हाल ही में धर्मेंद्र फिल्म यमला पगला दीवाना फिर से में नजर आए। इस फिल्म में उनके अलावा दोनों बेटे सनी देओल और बॉबी देओल की भी अहम भूमिका थी। नवनीत सिंह के निर्देशन में बनी यमला पगला दीवाना फिर से इस सीरीज़ का तीसरा भाग है। धर्मेद्र ने अपने दोनों बेटों सनी और बॉबी देओल के साथ पहली बार यमला पगला दीवाना के नाम से 2011 में फिल्म रिलीज़ की थी। 

बता दें कि, फिल्म का टाइटल 1975 में आई धर्मेन्द्र की ही फिल्म प्रतिज्ञा के एक गाने से लिया गया। समीर कर्णिक ने उसका निर्देशन किया था। उसके दो साल बाद दूसरा भाग बना, जिसके निर्देशक संगीत सीवन थे और ये तीसरा भाग है। फिल्म में कृति खरबंदा, असरानी और सतीश कौशिक भी नजर आए। 

यह भी पढ़ें: Me too: महिलाओं को दबाया जाता है, मौका मिलने पर किया जाता है परेशान- दिव्या दत्ता

यह भी पढ़ें: Me too: यह निजी मामला है, जो आगे आ रहे हैं उनको गुडलक: जसपिंदर नरूला

 

Posted By: Rahul soni

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप